स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने के लिए इन चीजों की आवश्यकता होगी. स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे.

शुद्ध गंधक- 40 ग्राम.

मुलेठी- 40 ग्राम.

सौंफ- 40 ग्राम.

सनाय की पत्ती 120 ग्राम.

शक्कर या मिश्री 240 ग्राम.

उपर्युक्त सभी चीजों को पीसकर चूर्ण बनाकर सुरक्षित रख लें, यही स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण है.

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण  के उपयोग एवं फायदे-

मात्रा- 3 से 6 ग्राम की मात्रा में पानी या दूध के साथ रात को या सुबह सेवन करें.

  • इसके सेवन से 12- 10 खुलकर दस्त आता है, खुजली, रक्त विकार दूर कर पेट को साफ करता है. शितपिति में भी इसका सेवन करना फायदेमंद होता है.
  • यदि कब्ज की समस्या हमेशा रहती है तो रात को खाना खाने के बाद 5 ग्राम लगभग एक चम्मच की मात्रा में पानी के साथ सेवन करने से पेट साफ हो जाता है और कब्ज से राहत मिलती है.
  • शरीर के किसी हिस्से में गैस की वजह से दर्द हो रहा है तो ऐसी स्थिति में इसका सेवन फायदेमंद होता है.
Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment