वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि

वास्तु शास्त्र- हर किसी की चाहत होती है कि वह सुखमय जीवन यापन करें. उसे हर तरह की सुख सुविधा प्राप्त हो और इसके लिए लोग जी तोड़ मेहनत भी करते हैं और कुछ लोग सुख- समृद्धि को प्राप्त कर लेते हैं लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं जिनके जीवन में आर्थिक समस्याएं आते रहते हैं जो खत्म होने का नाम नहीं लेते हैं या फिर अथक प्रयास करने के बाद भी आय के साधनों में किसी तरह की वृद्धि नहीं होती है.

वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि
वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि

यदि आप भी ऐसे समस्याओं से जूझ रहे हैं तो आज हम वास्तु शास्त्र के अनुसार 8 चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे यदि घर के मुख्य द्वार पर लगाया जाए तो सुख- समृद्धि प्राप्त हो सकती है.

घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि-

1 .तुलसी का पौधा-

वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि
वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मुख्य द्वार पर तुलसी का पौधा लगाना शुभ बताया गया है इसलिए घर के मुख्य द्वार पर तुलसी का पौधा लगाकर हर शाम को इस पौधे के नीचे दीपक जला कर रख देना चाहिए. इससे घर हमेशा धन-धान्य से भरपूर रहता है.

2 .मां लक्ष्मी का पद चिन्ह-

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मुख्य द्वार पर देवी- देवताओं की पद चिन्ह प्रतिमा को लगाना चाहिए. इससे घर में किसी भी तरह की नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नहीं हो पाता है. साथ ही मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है. इससे आर्थिक परेशानियों से निजात मिलती है और आपके घर में सुख- समृद्धि आती है.

3 .मां लक्ष्मी की तस्वीर-

वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि
वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि

मां लक्ष्मी के पद चिन्हों के अलावा घर के मुख्य द्वार पर मां लक्ष्मी की तस्वीर भी लगा सकते हैं. इससे घर में आने वाली आर्थिक संकट अपने आप ही दूर हो जाती है क्योंकि ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और आपके घर में सुख- समृद्धि का विकास होता है.

4 .स्वास्तिक चिन्ह-

स्वास्तिक चिन्ह और शुभ- लाभ श्री गणेश जी को बहुत ही प्रिय है. वास्तु शास्त्र के अनुसार स्वास्तिक चिन्ह और मुख्य द्वार की दाएं तरफ शुभ लाभ का प्रतीक लगाने से घर में सकारात्मक ऊर्जा और धन संपदा में वृद्धि होती है.

5 .बंदनवार-

घर के मुख्य द्वार पर बंदनवार लगाया जाना बहुत ही शुभ होता है. लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बंदनवार अशोक या फिर आम के पत्तों से ही बना होना चाहिए. इसमें आप चाहे कुछ फूल भी लगा सकते हैं. वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि अशोक और आम के पत्तों की बंदनवार से घर में नकारात्मक शक्तियों का प्रवेश नहीं होता है साथ में धन-धान्य में वृद्धि होता है.

6 .घोड़े की नाल-

वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि
वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि

वास्तु शास्त्र कहता है कि घर के मुख्य द्वार पर काले घोड़े की नाल लगाने से घर को किसी भी तरह की बुरी नजर नहीं लगती है. साथ ही घर में बरकत बनी रहती है. धन-धान्य और अनाज के भंडार लग जाते हैं.

7 .सूर्य यंत्र-

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मुख्य द्वार पर सूर्य यंत्र लगाया जाना बहुत ही शुभ होता है. सूर्य ऊर्जा और सकारात्मक शक्तियों का घटक माना गया है. यही कारण है कि सूर्य यंत्र घर में आने वाली नकारात्मक शक्तियों को प्रवेश नहीं करने देता है साथ ही घर में आर्थिक समृद्धि लेकर आता है.

8 .फ्लावर पॉट-

वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि
वास्तु शास्त्र- घर के मुख्य द्वार पर इन 8 चीज़ों को लगाने से बनी रहेगी सुख- समृद्धि

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के मुख्य द्वार पर महकने वाले पौधों को पॉट में सजा कर रखना शुभ बताया गया है. ऐसा करने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है और धन-धान्य एवं सुख- समृद्धि में बढ़ोतरी होती है. हां इस बात का ध्यान रखें कि फ्लावर पॉट मुख्य प्रवेश द्वार के दोनों तरफ रखनी चाहिए.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है अधिक जानकारी के लिए योग्य वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ की सलाह लें. धन्यवाद.

इसे भी पढ़ें-

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment