फेशियल के क्या फायदे है ? जानिए स्टेप बाय स्टेप करने के तरीके

ब्यूटी- लड़का हो या लड़की या फिर महिलाएं हर किसी की चाहत होती है कि उनका चेहरा हमेशा सुन्दर और जवान बना रहे, लेकिन इसके लिए इसकी साफ- सफाई के साथ समय – समय पर फेशियल की भी आवश्यकता होती है. लेकिन आजकल के व्यस्त जिंदगी में फेशियल के लिए समय देना मुश्किल सा होता जा रहा है. हालाँकि आपके पास समय का अभाव है तो आप घर पर भी फेशियल कर सकते है.

फेशियल के क्या फायदे है ? जानिए स्टेप बाय स्टेप करने के तरीके

फेशियल त्वचा की बनावट को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है, साथ ही साथ त्वचा की सफाई भी करता है और इसे मुलायम और चिकना बना देता है. वास्तव में, उचित फेशियल त्वचा के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यह आपकी त्वचा को एक्सफोलिएट और हाइड्रेट करने में मदद करता है, साथ ही दाग-धब्बों को कम करने में भी मदद करता है. तो आपको बिना पार्लर गए, घर पर खुद को परफेक्ट फेशियल देने के लिए यहां एक आसान-से-पालन गाइड बताया जा रहा है.

जानिए विस्तार से-

फेशियल क्या है ?

फेशियल को एक सौंदर्य उपचार माना जाता है जिसे आपके चेहरे पर त्वचा को एक्सफोलिएट, एनर्जेटिक या उपचार करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है. यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें भाप, क्रीम, मास्क, छिलके और मालिश आदि शामिल हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि इनका उपयोग सामान्य त्वचा स्वास्थ्य के साथ-साथ विशिष्ट त्वचा स्थितियों के लिए भी किया जाता है. फेशियल आपके रंग को साफ करने, उम्र बढ़ने के खिलाफ और त्वचा को आराम करने में मदद कर सकता है.

फेशियल के क्या फायदे है ? जानिए स्टेप बाय स्टेप करने के तरीके

फेशियल के क्या फायदे हैं ?

फेशियल मृत त्वचा को हटाता है.

फेशियल मुख्य रूप से मृत त्वचा से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है. इस प्रक्रिया को एक्सफोलिएशन कहा जाता है. मृत त्वचा कोशिकाएं, जो नई त्वचा की एक परत पर जमा हो सकती हैं, को साफ़ किया जाता है. त्वचा विशेषज्ञों के अनुसार, यदि इन्हें नहीं हटाया जाता है, तो ये आपकी त्वचा को रूखा और शुष्क बना देते हैं.

कभी-कभी डेड स्किन सेल्स से छुटकारा पाने के लिए फेस पीलिंग मास्क का भी इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन खुबानी से लेकर कॉफी तक किसी भी तरह के स्क्रब इस्तेमाल किया जा सकता है.

फेशियल तनाव कम करता है.

फेशियल चुनने के लिए सबसे अधिक आराम देने वाले त्वचा उपचारों में से एक है, वे अवांछित तनाव और तनाव से छुटकारा पाने में आपकी मदद कर सकते हैं. एक अध्ययन में कहा गया है कि आपके चेहरे पर सैकड़ों दबाव बिंदु होते हैं जो आपके शरीर में विभिन्न प्रणालियों से जुड़े होते हैं, जो आपके सहानुभूति तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करते हैं. यह आपकी चिंता के स्तर को कम करता है और आपके मूड को भी ऊपर उठाता है. जब दबाव बिंदुओं की मालिश की जाती है, तो आपका शरीर इस पर प्रतिक्रिया करता है. तो, फेशियल न केवल आपकी त्वचा को बल्कि आपके दिमाग को भी फिर से जीवंत करता है.

फेशियल है बुढ़ापा विरोधी-

उम्र के साथ, आपकी त्वचा अपनी चमक खो देती है और यह काफी स्वाभाविक है. त्वचा विशेषज्ञों का कहना है कि आपकी जीवनशैली और बाहरी कारक जैसे प्रदूषण और गंदगी आपकी त्वचा के लिए नई कोशिकाओं का निर्माण करना मुश्किल बना सकते हैं. फेशियल त्वचा को फिर से जीवंत करने और आपकी त्वचा की बनावट में सुधार करने में मदद कर सकता है. नियमित फेशियल और चेहरे की मालिश सेल पुनर्जनन को बढ़ावा देती है और बेहतर त्वचा रक्षा को बढ़ावा देती है. इससे आपको जवान और बेहतर दिखने वाली त्वचा प्राप्त होती है.

फेशियल है त्वचा का विषहरण-

हमारी दिनचर्या के साथ त्वचा पर काफी गंदगी जमा हो जाती है. यह जरूरी है कि इसे दैनिक आधार पर धोया जाना चाहिए, अपना चेहरा धोने से मदद मिल सकती है, लेकिन कुछ गंदगी आपके छिद्रों में रास्ता खोज सकती है और फेशियल आपकी त्वचा को डिटॉक्सीफाई करने में मदद कर सकता है. डॉक्टरों के अनुसार, फेशियल के दौरान, उपचार छिद्रों को खोलता है और सभी गंदगी को हटाता है, इस प्रकार मुँहासे और त्वचा की अन्य समस्याओं को रोकता है.

घर पर फेशियल करने के असरदार तरीके क्या हैं?

स्टेप 1: चेहरे की सफाई-

किसी भी त्वचा उपचार से पहले सफाई सबसे पहली प्रक्रिया है. अपने फेशियल से शुरुआत करने से पहले किसी भी गंदगी या मेकअप को हटाने के लिए अपने चेहरे को अच्छी तरह से साफ करना वास्तव में महत्वपूर्ण है. आप वाइप्स या मेकअप रिमूवर का उपयोग करके चेहरे से किसी भी मेकअप अवशेष को पोंछकर भी शुरू कर सकते हैं. फिर, अपनी त्वचा के आधार पर एक तेल या पानी आधारित क्लीन्ज़र का उपयोग करें. अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो माइल्ड फोम क्लींजर का इस्तेमाल करें.

स्टेप 2: मृत त्वचा को हटाना-

दूसरा कदम मृत त्वचा को एक्सफोलिएट करना और हटाना है. एक्सफोलिएटिंग आपकी त्वचा को चमकाने और त्वचा को चमक देने में भी मदद करता है. आप अपनी त्वचा के अनुकूल किसी भी स्क्रब का उपयोग कर सकते हैं और इसे धीरे से अपने चेहरे और गर्दन पर गोलाकार गति में रगड़ें. कम से कम एक या दो मिनट तक स्क्रब करें और गुनगुने पानी से धो लें.

नोट- बहुत अधिक और बहुत बार रगड़ने से आपकी त्वचा को लाभ के बजाय अधिक नुकसान होगा।

स्टेप 3: त्वचा की मालिश-

आइए उपचार के सबसे मजेदार हिस्से पर चलते हैं. त्वचा विशेषज्ञ के अनुसार रक्त परिसंचरण और मांसपेशियों की टोन में सुधार के लिए यह कदम आवश्यक है. कुछ मात्रा में फेस मसाज क्रीम लें. अपने माथे के बीच से शुरू करें और फिर चीकबोन्स की ओर बढ़ें. फिर अपनी नाक और ठुड्डी की मालिश करें. अंत में, अपने होठों पर इसे भेजें और ऊपर की ओर स्ट्रोक में अपनी जॉलाइन की मालिश करें.

गर्दन की मालिश करना न भूलें, यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है. अच्छी मसाज के बाद अपने चेहरे को पानी से धो लें.

नोट- अपनी उंगलियों को अपने मंदिरों और चेहरे की मांसपेशियों में रगड़ने के लिए एक गोलाकार गति का प्रयोग करें।

स्टेप 4: भाप लें-

एक्सफोलिएट करने और मालिश करने के बाद, भाप आती ​​है. यह आपके रोमछिद्रों को खोलने में मदद करता है और इसके अंदर फंसी किसी भी गंदगी से छुटकारा पाने में मदद करता है. यह कदम मुँहासा प्रवण त्वचा के लिए चमत्कार करता ह. यदि आपके पास घर में स्टीमर नहीं है, तो बस अपने स्टोव पर एक कंटेनर में पानी उबाल लें. फिर इसे गैस से उतार लें और अपने सिर को तौलिये से ढककर तौलिये से झुक जाएं और 5-10 मिनट के लिए भाप लें.

नोट- सैलून जैसे अनुभव के लिए पानी में लैवेंडर के तेल जैसे सुगंधित तेल मिलाएं।

स्टेप 5: फेस मास्क-

इन सबके बाद आपकी त्वचा को कुछ पोषण की जरूरत होती है. फेस मास्क आपकी त्वचा में नमी लौटाने में मदद कर सकते हैं जो एक्सफोलिएटिंग और स्टीमिंग ने छीन ली होगी. इसके लिए आप शीट मास्क का भी इस्तेमाल कर सकते हैं या घर पर खुद बना सकते हैं.

नोट- अपने चेहरे पर समान रूप से मास्क फैलाएं, अपनी ऊपरी गर्दन से शुरू करके अपनी गर्दन को न भूलें जो समान रूप से महत्वपूर्ण है.

स्टेप 6: टोनिंग और मॉइस्चराइजिंग-

स्किन केयर की बात करें तो टोनिंग भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम है. अब जबकि आपकी त्वचा ने पोषक तत्वों को अवशोषित कर लिया है, टोनर आपके छिद्रों को बंद करने में मदद करेगा. एक कॉटन पैड लें, उसमें थोड़ी मात्रा में टोनर डालें और कॉटन पैड को पूरे चेहरे पर लगाएं. इसके बाद मॉइश्चराइजर लगाएं और अपनी उंगलियों की मदद से इसे अपने पूरे चेहरे पर लगाएं. अपने चेहरे और गर्दन पर धीरे से क्रीम की मालिश करें. यह आपके छह-चरणीय घरेलू चेहरे के उपचार का अन्त करता है.

नोट- हाइड्रेटिंग अवयवों वाले मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें जो वास्तव में आपकी कोशिकाओं को अधिक सक्रिय बना सकते हैं.

कितनी बार फेशियल करना चाहिए?

विशेषज्ञों की सामान्य सिफारिश यह है कि हर तीन से चार सप्ताह में या महीने में एक बार, 28 दिनों में लगभग एक बार फेशियल करवाना चाहिए. यानी आपकी त्वचा का जीवन चक्र कितना लंबा होता है.

तीन या चार सप्ताह के बाद, आपकी त्वचा की कोशिकाएं वापस बढ़ने लगती हैं, इसलिए स्वस्थ और चमकदार त्वचा के लिए आदर्श रूप से महीने में कम से कम एक बार नियमित रूप से फेशियल करना चाहिए.

फेशियल के बाद ग्लो कितने समय तक रहता है?

चेहरे की तत्काल चमक आमतौर पर लगभग 48 से 72 घंटे तक रहती है. ऐसा इसलिए है क्योंकि त्वचा साफ और गहराई से हाइड्रेटेड होती है. इसके अलावा, चेहरे के दौरान कठोर मालिश के कारण परिसंचरण को बढ़ावा दिया गया है, जिससे ताजा रक्त कोशिकाओं को नए पोषक तत्व लाने की इजाजत देता है.

फेशियल के बाद किस स्किन केयर रूटीन का पालन करना चाहिए ?

फेशियल करवाने के बाद, अपनी चमक बनाए रखने के लिए कठोर स्किनकेयर रूटीन का पालन करना महत्वपूर्ण है. आपको सप्ताह में कम से कम एक बार अपनी त्वचा को एक्सफोलिएट करना चाहिए. अपने चेहरे को मॉइस्चराइज़ करके और एसपीएफ़ का उपयोग करके हर फेस वॉश का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे की सफाई और टोनिंग एक अनुष्ठान है जिसे आपको हर दिन के अंत में करना चाहिए, खासकर उन दिनों जब आप मेकअप करते हैं. आपको अपने चेहरे को बार-बार छूने से भी बचना चाहिए क्योंकि आपके हाथों की गंदगी आपकी त्वचा के छिद्रों में जा सकती है और मुंहासों का कारण बन सकती है.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है उपयोग से पहले किसी योग्य व्यूटीशियन की सलाह एक बार जरुर लें. धन्यवाद.

ayurvedgyansagar.com पर पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

बदलते मौसम में सर्दी, खांसी, बुखार जैसी समस्या से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

बुढ़ापे में भी मर्दाना कमजोरी दूर करने के 9 घरेलू उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

श्वेत प्रदर रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment