गन्ने का जूस पीने के 12 आश्चर्यजनक फायदे

हेल्थ डेस्क- गर्मी के मौसम में हर किसी को गन्ने का जूस पीना काफी पसंद होता है क्योंकि यह स्वादिष्ट होने के साथ गर्मियों से राहत देने का काम करता है. इतना ही नहीं यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी काफी फायदेमंद होता है. गन्ने का जूस पीने से न सिर्फ हमारी प्यास बुझती है बल्कि हमारे शरीर को कई बीमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है. इसमें मौजूद प्रोटीन, फाइबर, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम, फॉस्फोरस, जींक, विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन बी कंपलेक्स हमारे शरीर को पोषक तत्व प्रदान करते हैं. आज के इस लेख में हम गन्ने के जूस पीने के फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं.

चलिए जानते हैं गन्ने के जूस पीने के फायदे-

1 .ऊर्जा का है बेहतर स्रोत-

गन्ने का जूस पीने के 12 आश्चर्यजनक फायदे

गन्ने का जूस ऊर्जा का बेहतर स्रोत है. इसे पीने से यह हमारे शरीर को लंबे समय तक ऊर्जावान बनाए रखता है. गन्ने के जूस को ऊर्जा का अच्छा स्रोत माना जाता है. गन्ने का रस कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होता है इसलिए इसके सेवन से हमारे शरीर को लंबे समय तक ऊर्जा प्राप्त होती है.

2 .लिवर के लिए है लाभदायक-

गन्ने का जूस न सिर्फ हमें ऊर्जावान बनाए रखता है बल्कि यह स्वास्थ्य के लिए भी काफी लाभदायक होता है. गन्ने के जूस में मौजूद शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुण लीवर में इन्फेक्शन नहीं होने देता है. इसके अलावा गन्ने का रस क्षारीय होता है जिससे शरीर में एसिड लेबल कम अथवा नियंत्रण में रहता है.

3 .पेट के लिए है लाभदायक-

गन्ने का जूस पेट के लिए काफी लाभदायक होता है. इसमें मौजूद फाइबर, पोटेशियम पाचन शक्ति को बढ़ाने में मददगार होते हैं. इसलिए इसके सेवन से हमारा पेट साफ और ठंडा रहता है.

4 .त्वचा के लिए है फायदेमंद-

अक्सर त्वचा पर युवी किरणें और फ्री रेडिकल्स के कारण झुर्रियां आने लगती है. गन्ने के जूस में समृद्ध मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं. जिससे फ्री रेडिकल का प्रभाव कम होता है. इसके अलावा गन्ने के जूस में विटामिन ई मौजूद होता है जो हमारे त्वचा को ग्लो प्रदान करता है.

5 .हड्डियों को बनाता है मजबूत-

गन्ने के रस पीने से हड्डियां मजबूत होती है क्योंकि इसमें मौजूद कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन,. फास्फोरस हड्डियों को ताकत प्रदान करते हैं इसलिए प्रतिदिन एक गिलास गन्ने का जूस पीना हड्डियों के लिए काफी लाभदायक है.

6 .शरीर को मिलती है ठंडक-

गन्ने का रस पीने से शरीर को ठंडक मिलती है इसलिए गर्मियों में गन्ने की जूस पीने की सलाह दी जाती है. प्रतिदिन गर्मियों में गन्ने के जूस पीना चाहिए.

7 .पाचन तंत्र को बनाता है मजबूत-

गन्ने के जूस से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है. यदि किसी को कब्ज की समस्या रहती है तो उसे गन्ने का जूस जरूर पीना चाहिए. इसमें मौजूद फाइबर कब्ज से छुटकारा दिलाने में काफी मददगार होता है.

8 .रोग प्रतिरोधक क्षमता करता है मजबूत-

गन्ने का जूस पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है क्योंकि इसमें विटामिन सी मौजूद होता है. इसके सेवन से संक्रमण संबंधित बीमारियों का खतरा काफी कम हो जाता है.

9 .खून की कमी को करता है दूर-

यदि आपके शरीर में खून की कमी है तो आपको गन्ने का जूस जरूर पीना चाहिए. क्योंकि गन्ने के जूस पीने से हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ता है वही गन्ने के जूस में प्रचुर मात्रा में आयरन मौजूद होता है जिससे खून की कमी दूर होती है.

10 .पीलिया के लिए है लाभदायक-

गन्ने का जूस पीलिया यानी जॉन्डिस की बीमारी में काफी लाभदायक होता है क्योंकि गन्ने का जूस बिलुरुबिन के स्तर को नियंत्रण में रखता है. इसीलिए जॉन्डिस होने पर गन्ने का जूस पीने की सलाह दी जाती है.

11 .बैड कोलेस्ट्रोल को करता है कम-

गन्ने का जूस दिल से जुड़ी बीमारियों के लिए भी काफी लाभदायक होता है. गन्ने के रस पीने से बैड कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करने में मदद मिलती है. इसके अलावा ट्राइग्लिसराइड भी कम होता है. जिससे हार्ट अटैक का खतरा भी काफी कम हो जाता है.

12 .बुखार में है फायदेमंद-

गन्ने का जूस बुखार में भी पीना लाभदायक होता है. जब हमें बुखार आता है तो हमारा शरीर बीमारी से लड़ने की कोशिश करता है इस दौरान शरीर से बैक्टीरिया और वायरस मिटाने के लिए गन्ने का जूस पीना चाहिए.

कब नहीं पीना चाहिए गन्ने का जूस-

यदि हाई ब्लड प्रेशर हो-

यदि आप हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं तो आपको गन्ने का जूस सोच- समझ कर पीना चाहिए. अगर पीना ही चाहते हैं तो थोड़ी कम मात्रा में पीना चाहिए क्योंकि गन्ने के रस में पोलीकोसनॉल तत्व पाया जाता है जिससे खून पतला होता है. ऐसे में ब्लड प्रेशर के मरीजों को गन्ने का रस ज्यादा सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है.

यदि सर्दी- खांसी की समस्या है-

अगर आपको मौसम बदलने या वायरस के कारण सर्दी- जुकाम या खांसी की समस्या है तो आप को गन्ने के रस नहीं पीने चाहिए. इसका सेवन शरीर में ठंडक बढ़ाता है जिससे फेफड़ों में कफ की समस्या बढ़ सकती है.

यदि आप वजन घटा रहे हैं-

गन्ने का जूस पीने के 12 आश्चर्यजनक फायदे

अगर आपका वजन अधिक है और आप घटाने की कोशिश कर रहे हैं तो ऐसे में आपको गन्ने का जूस पीने से बचना चाहिए. क्योंकि इसमें भारी मात्रा में कैलोरी और शुगर होती है. जिससे शरीर का फैट काफी तेजी से बढ़ सकता है.

यदि आपके पेट में कीड़े की समस्या हो-

यदि आपके पेट में कीड़े हैं या फिर पेट से जुड़ी कोई समस्या है तो गन्ने का रस का सेवन आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है. इसी के चलते अक्सर चिकित्सक बच्चों को इसका सेवन ज्यादा नहीं करने की सलाह देते हैं.

अगर शुगर लेवल बढ़ा हुआ हो-

गन्ने का रस में प्राकृतिक शुगर की मात्रा अधिक होती है इसलिए डायबिटीज के मरीजों को इसका सेवन करने से बचना चाहिए. इसका सेवन सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. अगर आपके शरीर में शुगर लेवल बढ़ा हुआ हो तो.

इन बातों को रखें याद-

गन्ने का जूस निकालने के बाद कुछ ही देर में यह ऑक्सिडाइज हो जाता है. जिससे इसमें संक्रमण का खतरा बढ़ता जाता है. इसलिए हमेशा कोशिश करनी चाहिए कि गन्ने का जूस ताजा यानी तुरंत निकाला हुआ है पीना चाहिए.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. ऐसे तो गन्ने के जूस का सेवन करना सेहत के लिए काफी लाभदायक होता है. लेकिन यदि आप कोई बीमारी की अवस्था में है तो डॉक्टरी सलाह के बाद ही इसका सेवन करना आपके लिए बेहतर होगा. धन्यवाद.

ayurvedgyansagar.com पर पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

श्वेत प्रदर रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment