बहुत गुणकारी है गुड़, जाने खाने के आश्चर्यजनक फायदे

हेल्थ डेस्क- बड़े- बुजुर्ग हों या फिर डॉक्टर सभी स्वस्थ रहने के लिए चीनी से दूरी बनाने की सलाह देते हैं. देखा जाए तो यह बात भी सही है क्योंकि चीनी कई बीमारियों का कारण बन सकता है. लेकिन खाने के बाद थोड़ा सा मीठा खाना तो बनता है ऐसे में गुड़ काम आ सकता है. गुड़ को काफी सेहतमंद माना गया है. कहा जाता है कि गुड़ से भोजन जल्दी पचता है और पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है इसलिए खाना खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ खाने की सलाह दी जाती है.

बहुत गुणकारी है गुड़, जाने खाने के आश्चर्यजनक फायदे

गुड़ क्या है ? What is jaggery?

गुड़ एक प्रकार का मीठा खाद्य पदार्थ होता है जिसका निर्माण गन्ने के रस से किया जाता है. इसके लिए गन्ने के रस को किसी बड़े बर्तन में रखकर आग पर गर्म किया जाता है जो कुछ समय बाद गाढ़ा होकर गुड़ का रूप ले लेता है. हालाँकि चीनी को भी गन्ने के रस से ही बनाया जाता है लेकिन चीनी गन्ने के रस का रिफाइंड रूप है जबकि गुड़ प्राकृतिक रूप है. इसी कारण से गुड़ में अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं.

गुड़ खाने के क्या फायदे हैं ? What are the benefits of eating jaggery?

गुड़ कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है जिसके कारण गुड़ खाने के अनेक फायदे होते हैं.

1 .रक्त को शुद्ध करता है गुड़-

गुड़ का सबसे लोकप्रिय फायदों में से एक यह है कि इसके सेवन से रक्त शुद्ध होती है अगर नियमित रूप से गुड़ का सेवन किया जाए तो खून को साफ करने और शरीर को स्वस्थ बनाने में एक लंबा रास्ता तय करता है. यह हीमोग्लोबिन की गिनती को बढ़ाकर विभिन्न रक्त विकारों और बीमारियों को रोकने में मदद करता है. गुड़ उन्मुक्ति को बढ़ाता है और इस प्रकार रक्त संबंधी विभिन्न समस्याओं की रोकथाम में मददगार होता है.

2 .आयरन से भरपूर है गुड़-

गुड़ फ़ोलेट और आयरन की अपनी सामग्री में काफी समृद्ध है और इसलिए यह एनीमिया की रोकथाम में मददगार होता है. यह मानव शरीर की कमजोरी और थकान को रोकने के लिए तुरंत एनर्जी प्रदान करता है.

3 .खनिजों का अच्छा स्रोत है गुड़-

गुड़ में सेलेनियम और जस्ता जैसे खनिज और एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. यह मुफ्त कट्टरपंथी क्षति को रोकने में मदद करते हैं. यह खनिज और एंटीऑक्सीडेंट शरीर के विभिन्न संक्रमण के प्रतिरोध को बढ़ाने में भी मददगार होते हैं.

4 .सौन्दर्य उपचार में लाभदायक है गुड़-

गुड़ सौन्दर्य उपचार के लिए इस्तेमाल होने पर भी काफी लाभदायक साबित होता है. यह कई प्राकृतिक गुणों से भरा हुआ है जो त्वचा के स्वास्थ्य को बहुत लंबे समय तक सुनिश्चित करता है. यह विभिन्न खनिजों और विटामिन की अपनी सामग्री से समृद्ध है और इस प्रकार त्वचा को उचित पोषण प्रदान करता है. त्वचा को उचित पोषण मिलने का मतलब है त्वचा स्वस्थ और चमकती हुई रहेगी. त्वचा की विभिन्न समस्याओं और मुहांसों को रोकने और उनके उपचार में मददगार होता है.

5 .पाचन प्रक्रिया को दुरुस्त करता है गुड़-

गुड़ पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में काफी मददगार होता है क्योंकि इसके सेवन से पाचन अच्छी होती है. पाचन तंत्र को ठीक से काम करने का मतलब है कि पाचन संबंधी समस्याओं की उचित रोकथाम और उसी समय पाचन में सुधार. गुड़ पाचन एंजाइम के स्राव को उत्तेजित करता है और इसलिए पाचन की प्रक्रिया को तेज करता है उचित पाचन मल त्याग को विनियमित करने और कब्ज, आंतों के कीड़े और पेट फूलने जैसी समस्याओं को रोकने में मदद करता है.

6 .चयापचय में सुधार करता है गुड़-

गुड़ की उच्च खनिज सामग्री और पोटेशियम का उच्च स्तर वजन प्रबंधन में मदद करता है. यह मानव शरीर में अतिरिक्त पानी की अवधारणा को कम करके किया जाता है. गुड़ की पोटेशियम सामग्री इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखती है चयापचय में सुधार करती है और मांस पेशियों को वजन घटाने में मदद करती है.

7 .तंत्रिका तंत्र को बेहतर बनाता है गुड़-

गुड़ शरीर के तंत्रिका तंत्र के साथ सामना करने वाले प्रमुख मुद्दों को रोकने में भी मदद करता है. इसमें कई प्राकृतिक गुण होते हैं जो तंत्रिका तंत्र को ठीक से काम करने में मदद करते हैं. यह बदले में व्यक्तियों को स्वस्थ और सामान्य रहने में मदद करता है.

8 .गुड़ को अदरक के साथ गर्म करके खाने से गले की खराश दूर होती है.

9 .गुड़ को अदरक के साथ खा सकते हैं या एक गिलास दूध के साथ सेवन करने से शरीर का दर्द दूर होता है. इसीलिए गठिया के मरीजों को सर्दियों में नियमित रूप से गुड़ खाने की सलाह दी जाती है.

10 .गुड़ का सेवन करने से लीवर स्वस्थ रहता है यह खून से हानिकारक टॉक्सिंस को बाहर निकालता है और शरीर में रक्त प्रवाह को बेहतर बनाता है.

11 .गुड़ में पकाए गए चावल खाने से गले की आवाज ठीक होती है.

12 .जुकाम होने पर गुड़ को गर्म कर पिघलाकर खाएं जुकाम दूर होगा.

13 .गुड़ और घी को मिलाकर खाने से कान दर्द दूर होता है.

14 .भोजन के बाद थोड़ा सा गुड़ खाने से उदर वायु ठीक होती है.

15 .पुराना सूखा गुड़ पीसकर सूंघने से हिचकी बंद होती है.

16 .ज्यादा सर्दी होने पर 10 ग्राम गुड़ 5 ग्राम दही व 5-7 कलीमिर्च को पीसकर सेवन करने से लाभ होता है.

17 .प्रतिदिन 2 ग्राम गुड़ और 1 ग्राम धनिया खाने से दांत मजबूत होने के साथ ही मुंह की दुर्गंध भी दूर रहती है.

18 .गुड़ का हलवा खाने से स्मरण शक्ति बढ़ती है.

19 .खाली पेट गुड़ खाने से भूख अच्छी लगती है.

20 .बाजरे की खिचड़ी के साथ गुड़ खाने से आंख की रोशनी बढ़ती है.

21 .कांटा चुभ जाए और यदि चमड़ी से बाहर ना आए तो उस स्थान पर गुड़ और अजवाइन गर्म करके बांधने से काटा अपने आप बाहर निकल आता है.

गुड़ खाने के नुकसान-

गुड़ का सेवन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है. लेकिन अधिक मात्रा में सेवन करने से नुकसान भी हो सकती है.

अधिक मात्रा में गुड़ खाने से इसमें मौजूद शुगर के कारण टाइप 2 मधुमेह रोग का जोखिम बढ़ सकता है.

गुड ज्यादा खाने से दांत में कीड़े होने की संभावना हो सकती है.

शरीर में कैलोरी की मात्रा बढ़ सकती है जो मोटापे का कारण बन सकता है.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है किसी बीमारी के इलाज का विकल्प नहीं है. यदि आप किसी बीमारी में गुड़ खाना चाहते हैं तो पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment