जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

हेल्थ डेस्क- जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए मेथी के लड्डू का सेवन करना किसी औषधि से कम नहीं है. महिलाओं के लिए प्रसव होने के बाद इसका सेवन करना काफी लाभदायक होता है क्योंकि मेथी के लड्डू शरीर को ताकत व गर्मी प्रदान करता है और कई बीमारियों से दूर रखने में मददगार होता है.

मेथी का लड्डू सेवन करना सेहत के लिए काफी लाभदायक होता है क्योंकि मेथी में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं. इसकी तासीर गर्म होने के कारण यह शरीर में गर्माहट लाता है इसलिए मेथी के लड्डू का सेवन करने की सलाह जाड़े के मौसम में दिया जाता है.

मेथी के लड्डू बनाने की सामग्री-

मेथीदाना- 100 ग्राम

गेहूं का आटा- 300 ग्राम

दूध- आधा लीटर

घी- 250 ग्राम

गोंद- 100 ग्राम

बादाम का छोटा छोटा टुकड़ा- तीन चम्मच

गुड़ या चीनी- 300 ग्राम

काली मिर्च दाना- 8 से 10 पीस

जीरा पाउडर- 2 चम्मच

सोठ पाउडर- 2 चम्मच

छोटी इलायची का चूर्ण- आधा चम्मच

दालचीनी का चूर्ण- आधा चम्मच

जायफल- 2 पीस का चूर्ण

मेथी के लड्डू बनाने की विधि-

मेथी दानों को अच्छी तरह से साफ करके दरदरा पीस लें. अब एक पैन में दूध उबालें. उसमें पिसी हुई मेथी को 8- 10 घंटे के लिए भिगोकर रख दें. काली मिर्च, दालचीनी और जायफल को एक साथ पीसकर चूर्ण बना लें. अब एक कड़ाही में आधा कप घी गर्म करें और उसमें भीगी हुई मेथी को डालकर मध्यम आंच पर हल्का लाल होने तक भुनें. दो चम्मच धी में गोंद को तल कर निकाल दे. दो चम्मच घी में आंतें को हल्का भूरा होने तक भून लें. फिर एक चम्मच घी गर्म करके उसमें गुड़ को डालकर पिघलाएं. गुड़ की इस तैयार चासनी में जीरा पाउडर, सोंठ पाउडर, बादाम का कतरन, काली मिर्च, दालचीनी, जायफल और इलायची डालकर अच्छी तरह से भुनें. अब इसमें भुनी हुई मेथी, भुना हुआ आटा और तला हुआ गोंड डालकर अच्छी तरह से मिलाएं. अब इस मिश्रण को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में हथेलियों में लेकर गोलाकार लड्डू बना लें. और इसे ठंडा होने के लिए खुला छोड़ दें.

इसे भी पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

बदलते मौसम में सर्दी, खांसी, बुखार जैसी समस्या से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

बुढ़ापे में भी मर्दाना कमजोरी दूर करने के 9 घरेलू उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

जब लड्डू ठंडा हो जाए तो इसे किसी एयर टाइट डिब्बे में बंद करके रख लें. अब इसमें से प्रतिदिन सुबह और शाम दूध के साथ एक लड्डू का सेवन करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है. इसके सेवन से भूख अच्छी लगती है और प्रसव के बाद यदि महिला को दूध कम हो रहा है तो इसके सेवन से दूध की मात्रा में भी बढ़ोतरी होती है.

मेथी के लड्डू खाने के अन्य फायदे-

1 .शरीर में कोलेस्ट्रोल के बढ़ने से कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हो सकती है. ऐसे में कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने के लिए मेथी का उपयोग बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. दरअसल एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार मेथी के दानों में नोरिंगेनीं नामक फ्लेवोनॉयड पाया जाता है. यह रक्त में लिपिड के स्तर को कम करने का काम कर सकता है. साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं. जिस कारण मरीज का कुछ कोलेस्ट्रोल कम हो सकता है. इसलिए कहा जा सकता है कि मेथी के बीज वाला लड्डू कोलेस्ट्रोल को कम करने के लिए लाभदायक हो सकता है इसलिए भी मेथी के लड्डू का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है.

2 .उम्र बढ़ने के साथ-साथ जोड़ों में दर्द और सूजन होना एक आम समस्या है. इसमें कई लोगों को असहनीय दर्द हो सकता है. इसे जोड़ों का दर्द जिसे अर्थराइटिस कहा जाता है. इससे निपटने के लिए मेथी रामबाण नुस्खा है. जिसे सदियों से प्रयोग में लाया जा रहा है. मेथी में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं. यह गुणकारी तत्व जोड़ों की सूजन को कम करके अर्थराइटिस दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं. मेथी में आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है इसलिए मेथी के औषधीय गुणों से हड्डियों व जोड़ों को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं. जिससे हड्डियां मजबूत रह सकती है. इसलिए मेथी के लड्डू का सेवन करना लाभदायक हो सकता है.

3 .मेथी के लड्डू का सेवन करना ह्रदय को बेहतर तरीके से काम करने में भी मददगार है. इसलिए भी मेथी का उपयोग करने की सलाह दी जाती है जो लोग नियमित रूप से मेथी का सेवन करते हैं उन्हें दिल का दौरा पड़ने की आशंका बहुत कम हो सकती है और अगर दौरा पड़ भी जाए तो जानलेवा स्थिति से बचा जा सकता है. विभिन्न शोधों में पाया गया है कि मृत्यु दर के पीछे दिल का दौरा एक प्रमुख कारण होता है. यह तब होता है जब हृदय की धमनियों में रुकावट आ जाती है. वही मेथी के दाने इस स्थिति से बचाने में सक्षम हो सकते हैं. अगर किसी को दिल का दौरा पड़ जाए तो मेथी ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को पैदा होने से रोकने का काम कर सकती है. हृदयाघात के दौरान ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस की स्थिति जानलेवा साबित हो सकती है. साथ ही मेथी के बीज शरीर में रक्त प्रवाह को संतुलित रखने में मददगार होता है. जिस कारण धमनियों में किसी भी प्रकार की रुकावट पैदा नहीं हो सकती है. ऐसे में मेथी दाना खाने के फायदे में हृदय को स्वस्थ रखना भी शामिल है. इसलिए भी मेथी के लड्डू का सेवन करना लाभदायक हो सकता है.

जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

4 .महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान असहनीय दर्द से गुजारना पड़ता है. ऐसी स्थिति में मेथी खाने लाभ होता है अगर आप सोच रहे हैं कि मेथी खाने से क्या होता है तो बता दें कि इस स्थिति में मेथी दाने से बना पाउडर राहत दिलाने में कारगर काम कर सकते हैं. साथ में मेथी के दाने मासिक धर्म से जुड़ी अन्य समस्याओं से राहत दिलाने में भी मददगार हो सकते हैं. मेथी के दानों में एंटी इन्फ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक, एंटी स्पासमोडिक व ड्यूरेटिक गुण पाए जाते हैं. वैज्ञानिक शोधों में इस बात की पुष्टि की गई है कि यह गुणकारी तत्व मासिक धर्म में होने वाली हर तरह की पीड़ा से राहत दिलाने का काम कर सकते हैं. इसलिए भी महिलाओं को मेथी के लड्डू का नियमित सेवन करना लाभदायक हो सकता है.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह एक बार जरूर लें. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment