गर्मी में बेल का शरबत पीने के फायदे जानकर आज से शुरू कर देंगे पीना

हेल्थ डेस्क- गर्मी के दुष्प्रभाव और सेहत की हर समस्या के लिए बेल का प्रयोग करना रामबाण से कम नहीं है. यह न केवल शरीर को ठंडक देता है बल्कि सेहत से जुड़े कई लाभ भी देता है. जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे.

बेल का इस्तेमाल कई तरह की औषधियों को तैयार करने के लिए भी किया जाता है. साथ ही यह कई स्वादिष्ट व्यंजनों में भी प्रमुखता से इस्तेमाल किया जाता है. बेल में प्रोटीन, beta-carotene, थायमिन, राइबोफ्लेविन और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है.

बेल का शर्बत पीने के फायदे-

1 .लू से बचाता है बेल का शरबत-

गर्मी के दिनों में लू लगने का डर सबसे अधिक होता है. बेल का शरबत बनाकर पीने से लू लगने का डर नहीं होता है और लू लग जाने पर भी अगर बेल का शरबत बना कर पिलाया जाता है तो राहत मिलता है. तपते शरीर की गर्मी को दूर करने में बेल का शरबत काफी लाभदायक है.

2 .दिल के लिए है लाभदायक-

गर्मी में बेल का शरबत पीने के फायदे जानकर आज से शुरू कर देंगे पीना

बेल का शरबत तैयार कर लीजिए और उसमें कुछ देसी घी की बूंदे मिला लीजिए. अब इस तरह को प्रतिदिन निश्चित मात्रा में सेवन करें. इसके नियमित सेवन करने से दिल से जुड़ी बीमारियों से बचाव होता है. साथ ही यह ब्लड शुगर को भी नियंत्रित करने में मददगार होता है.

3 .खून साफ करने में है मददगार-

खून साफ करने में भी यह मददगार है. खून खराब हो जाने के बाद शरीर में फोड़े- फुंसियां होने शुरू हो जाते हैं. ऐसे में बेल के रस में कुछ मात्रा में गुनगुने पानी मिलाकर इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर नियमित रूप से पीने से खून साफ हो जाता है और फोड़े- फुंसियों की समस्या से राहत मिलती है.

4 .कैंसर से करें बचाव-

नियमित रूप से बेल का सेवन करने से कैंसर जैसी घातक बीमारियों से बचाव होता है. खासकर ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावना काफी कम हो जाती है.

5 .शरीर को देता है ठंडक-

बेल के रस को शहद के साथ मिलाकर पीने से एसिडिटी से राहत मिलती है. अगर आपको मुंह में छाले हो गए हैं तो इसका सेवन काफी फायदेमंद रहेगा. गर्मी के लिहाज से यह एक बेहतरीन पेय है. एक ओर जहां लू से सुरक्षित रखने में मददगार होता है वही शरीर को अंदर से ठंडक देने का काम करता है.

6 .दस्त और डायरिया की समस्या में है लाभदायक-

गर्मी के दिनों में अक्सर दस्त और डायरिया जैसी समस्याएं होना आम हो जाती है. ऐसे में बेल का शरबत पीना काफी लाभदायक होता है क्योंकि यह शरीर को ठंडक प्रदान करता है. जिससे दस्त और डायरिया में लाभ होता है साथ ही शरीर को यह एनर्जी भी प्रदान करता है.

7 .पाचन क्रिया रखता है दुरुस्त-

पाचन संबंधी समस्याओं में पके हुए बेल का सेवन करना लाभदायक होता है. इसका शरबत पीने से पेट साफ रखता है. यह पाचक होने के साथ-साथ बलवर्धक है. इसके सेवन से वात- कफ संबंधी समस्याएं भी दूर हो जाती है. गर्मियों में गर्भवती महिलाओं का जी मिचलाने लगे तो बेल और सोठ का का एक दो चम्मच शरबत पिलाने से लाभ होता है.

8 .रोग प्रतिरोधक क्षमता को करता है मजबूत-

बेल का शरबत रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने और शरीर को फुर्तीला बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके अलावा स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध की वृद्धि के लिए भी बेल का शरबत पीना बेहद फायदेमंद है. बेल का शरबत को नियमित रूप से पीना स्तनपान कराने वाली महिलाओं और उनके शिशु के लिए बेहद फायदेमंद होता है.

9 .सूजन को करता है कम-

बेल का शरबत पीने से शरीर के किसी भी भाग में होने वाली सूजन को कम करने में मदद मिलती है क्योंकि बेल के शरबत में एंटी- इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं जो शरीर में होने वाली सूजन को कम करने के साथ ही खुजली और खिंचाव की समस्या को भी शांत करने में मदद करता है. इसके अलावा बेल के शरबत में मौजूद पोषक तत्व अल्सर की समस्या को ठीक करने में भी बेहद कारगर होता है. अल्सर के रोगियों को प्रतिदिन नियमित रूप से बेल का शरबत पीना चाहिए. इससे अल्सर की समस्या से काफी राहत पाई जा सकती है.

10 .त्वचा को बनाता है चमकदार-

गर्मी में बेल का शरबत पीने के फायदे जानकर आज से शुरू कर देंगे पीना

बेल का शरबत पीना त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होता है. बेल के शरबत में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण त्वचा में होने वाले विभिन्न रोगों और एलर्जी से सुरक्षा प्रदान करता है. त्वचा में पड़ने वाले चकत्ते, मुंहासे एवं त्वचा संबंधी समस्याओं को ठीक करने और त्वचा को स्वस्थ रखने में मददगार होता है. प्रतिदिन बेल का शरबत पीने से त्वचा संक्रमण एवं बुरे बैक्टीरिया से बचा जा सकता है. यह हमारे शरीर को हाइड्रेट रखता है जिससे त्वचा चमकदार बनती है.

11 .श्वसन संबंधी समस्याओं में है लाभदायक-

बेल का शरबत श्वसन संबंधी समस्याओं को ठीक करने में मददगार होता है. जिन लोगों को श्वसन संबंधी समस्याएं हैं उन्हें नियमित रूप से बेल का शरबत पीना चाहिए. बेल के शरबत में मौजूद पोषक तत्व श्वास एवं अस्थमा जैसी समस्याओं से सुरक्षा प्रदान करने में मददगार होते हैं. इसके अलावा बेल का शरबत पीना बवासीर के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है. बेल में मौजूद पोषक तत्व बवासीर की समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है ऐसे तो बेल का सेवन करना हानिकारक नहीं है फिर भी यदि किसी बीमारी की अवस्था में है तो किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

इसे भी पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

श्वेत प्रदर रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

श्वेत प्रदर रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment