दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

हेल्थ डेस्क- भोजन में दाल का सेवन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है. मसूर दाल की बात करें तो यह कई पोषक तत्वों से भरपूर होती है. मसूर दाल में विटामिन, कैल्शियम, प्रोटीन, एमिनो एसिड, पोटेशियम, आयरन, एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटीवायरल मौजूद होती है. मसूर दाल में प्रोटीन की मात्रा अच्छी होने के कारण इसके सेवन से शरीर में प्रोटीन की कमी पूरी होती है. दिमाग से लेकर दिल को स्वस्थ रखने में मददगार होता है. इतना ही नहीं इसके सेवन से मोटापा भी नियंत्रण में रखता है.

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

मसूर की दाल का सेवन करना सेहत के लिए काफी लाभदायक हो सकता है. मसूर दाल ना सिर्फ लोकप्रिय पौष्टिक भोजन है बल्कि यह ऊर्जा का अच्छा स्रोत भी है. मसूर दाल में माइक्रोन्यट्रिएंट्स पाए जाते हैं और साथ में प्रीबायोटिक कार्बोहाइड्रेट भी होते हैं. प्रीबायोटिक कार्बोहाइड्रेट वह होते हैं जिन्हें पचाना आसान होता है.

रिसर्च में पाया गया है कि जो खाद पदार्थ प्रीबायोटिक कार्बोहाइड्रेट और डाइटरी फाइबर से समृद्ध होते हैं वह मोटापा, कैंसर, हृदय रोग और मधुमेह जैसी गैर संक्रमित बीमारियों के जोखिम को कम कर सकते हैं. इस आधार पर यह माना जा सकता है कि मसूर की दाल उपयोग सेहत को बढ़ाने और सुरक्षित रखने में कारगर हो सकता है. मसूर की दाल खाने के फायदे आगे लेख में विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे.

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि 

तो चलिए जानते हैं मसूर दाल खाने के फायदे-

दिमाग के लिए है फायदेमंद-

मसूर का दाल सेवन करना दिमाग के लिए काफी लाभदायक होता है क्योंकि इसके सेवन से दिमाग की कोशिकाएं बेहतर तरीके से काम करती है. ऐसे में दिमाग का बेहतर विकास होने के साथ-साथ दिमाग से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा भी कम हो जाता है.

दिल को रखें स्वस्थ-

मसूर का दाल बहुत ही हल्की- फुल्की होने से शरीर का बेहद तरीके से विकास करने में मदद करती है. इसके साथ ही इसके सेवन से कोलेस्ट्रोल लेबल कम होता है. जिससे दिल स्वस्थ रहता है ऐसे में दिल से संबंधित रोगों को होने का खतरा कम हो जाता है.

ब्लड शुगर को नियंत्रित-

डायबिटीज के मरीजों के लिए मसूर दाल का सेवन करना फायदेमंद होता है. इसमें फाइबर एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में होने शुगर लेवल बढ़ने की परेशानी छुटकारा मिलता है.

मोटापा को करें नियंत्रित-

जो लोग मोटापे की समस्या से परेशान रहती हैं. उनके लिए मसूर का दाल सेवन करना काफी लाभदायक होता है. क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अच्छी होने के कारण भोजन को पचाने में मदद मिलती है. साथ ही पेट और कमर पर जमा अतिरिक्त चर्बी कम करने में मदद मिलती है.

कब्ज से दिलाए छुटकारा-

आजकल के बदलते लाइफस्टाइल में ज्यादा कर लो जंक फूड का सेवन करना पसंद करते हैं. जिसके कारण कब्ज का होना आम बात हो जाता है. ऐसे में फाइबर से भरपूर मसूर दाल का सेवन करने से कब्ज की परेशानी दूर होती है. यह पाचन तंत्र को मजबूत कर एसिडिटी पेट दर्द आदि की समस्या से राहत दिलाता है.

बढ़ाता है रोग प्रतिरोधक क्षमता-

मसूर दाल पोषक तत्वों से भरपूर होने के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बेहतर बनाने में मददगार होता है. ऐसे में बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलने के साथ हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है. ऐसे में थकान कमजोरी दूर होकर शरीफ स्वस्थ स्वस्थ दरुस्त रहता है.

गर्भावस्था के लिए-

गर्भावस्था के दौरान अक्सर महिलाओं को कमजोरी की समस्या हो जाती है. ऐसी स्थिति में मसूर की दाल खाने से शरीर में पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा मिल सकती है. जिसके वजह से महिलाओं को कमजोरी से छुटकारा मिल सकता है. मसूर की दाल में कुछ मात्रा में फोलिक एसिड पाया जाता है जो गर्भस्थ शिशु और गर्भवती महिलाओं के लिए काफी लाभदायक होता है. फोलिक एसिड शिशु में न्यूरल ट्यूब दोस्त यानी जन्मजात तंत्रिका तंत्र विकार के जोखिम से दूर रख सकता है.

इसलिए विशेषज्ञ भी सलाह देते हैं कि गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन 520 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड का सेवन करना चाहिए. वही 100 ग्राम मसूर दाल में 181 से 358 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड पाया जाता है. इसलिए गर्भावस्था में फोलिक एसिड की पूर्ति के लिए मसूर दाल का सेवन करने से लाभ हो सकता है.

दांत और हड्डियों के लिए-

हड्डियों के कमजोर होने से जोड़ों में दर्द का खतरा बढ़ सकता है. मसूर की दाल की समस्या से राहत पहुंचाने में मदद कर सकती है क्योंकि मसूर की दाल में कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस मौजूद होता है जो हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने में मदद करता है. इस प्रकार मसूर दाल के उपयोग से जोड़ों के दर्द की समस्या राहत मिल सकती है. साथ ही दांत मजबूत कर सकते हैं.

मांस पेशियों के लिए-

अच्छा शरीर हर क्षेत्र में तरक्की दिलाने में मददगार होता है. शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक तत्वों का सेवन करना आवश्यक होता है. इस बात को तो सभी लोग भली-भांति जानते हैं कि दाल में अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है. प्रोटीन मांस पेशियों के विकास और उन्हें स्वस्थ रखने में मदद करता है. इसलिए मांस पेशियों को मजबूत बनाने और प्रोटीन की पूर्ति के लिए मसूर की दाल का सेवन किया जा सकता है.

बालों के लिए-

मसूर दाल का सेवन करने से बालों को स्वस्थ रखने में भी मदद मिलता है. बालों के झड़ने की समस्या लगभग और कई लोगों को होती है और इससे बचने के लिए लोग काफी पैसे भी खर्च करते हैं. लेकिन कोई खास लाभ नहीं हो पाता है. वही मसूर की दाल में प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो बालों को जड़ों से मजबूत बनाकर उन्हें झड़ने से रोक सकते हैं. इस प्रकार मसूर दाल का सेवन करना बालों के लिए भी लाभदायक हो सकती है.

त्वचा के लिए-

हर किसी की चाहत होती है कि उसकी त्वचा स्वस्थ हो. इसके लिए लोग कई तरह के क्रीम और ट्रीटमेंट का उपयोग करते हैं वही साधारण सी मसूर की दाल इस काम में मदद कर सकती है. मसूर की दाल से बने फेस मास्क त्वचा को कई लाभ दे सकते हैं. इसके इस्तेमाल से त्वचा की अशुद्धियां दूर हो सकती है. लाल मसूर के फेस पैक से त्वचा युवा, कोमल और चमकती हुई बन सकती है. लाल मसूर की दाल से तैयार फेस मास्क त्वचा को एक्सफोलिएट कर सकता है और पोर्स को टाइट करने का भी काम कर सकता है हालांकि इन तथ्यों की पुष्टि के लिए और शोध किए जाने की जरूरत है.

वहीं कई जगह इस दाल के पानी को त्वचा संक्रमण व जले हुए घाव से राहत पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

नोट- यह पोस्ट शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. किसी भी बीमारी की अवस्था में या उपचार के लिए उपयोग करने से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

इसे भी पढ़ें-

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment