Protein- प्रोटीन क्या है ? जाने इसके फायदे, नुकसान और प्राप्त करने के स्रोत

हेल्थ डेस्क- हमारे शरीर को स्वस्थ और मजबूत बने रहने के लिए कई तरह की विटामिन, मिनरल्स की जरूरत होती है उन्हीं में से एक है प्रोटीन जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक होता है.

प्रोटीन क्या है ? What is Protein?

हमारे शरीर के लिए प्रोटीन बहुत ही जरूरी तत्व है क्योंकि शरीर में मौजूद हर जीवित कोशिकाओं को प्रोटीन की आवश्यकता होती है. प्रोटीन एक माइक्रोन्यूट्रिएंट्स है और शरीर को प्रतिदिन के कार्य करने के लिए आहार में कुछ मात्रा में प्रोटीन की जरूरत होती है. हमारे संतुलित आहार में कुल कैलोरी का 15 से 35% हिस्सा प्रोटीन का होना चाहिए. प्रोटीन मुख्य रूप से एमिनो एसिड से बने होते हैं और यह कोशिकाओं को ऊर्जा प्रदान करते हैं. प्रोटीन दो प्रकार के अमीनो एसिड से बनता है. जिसमें पहला एमिनो एसिड है जिसे शरीर किसी भी खाद्य पदार्थ से बना सकता है. लेकिन दूसरे प्रकार की अमीनो एसिड में शरीर को विशेष तौर पर प्रोटीन युक्त आहार खानी पड़ती है. कुल 20 अमीनो एसिड में से 9 शरीर के लिए बहुत आवश्यक माने जाते हैं और इन्हें अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहिए.

Protein- प्रोटीन क्या है  जाने इसके फायदे, नुकसान और प्राप्त करने के स्रोत

प्रोटीन की आवश्यकता हर व्यक्ति को होती है. लेकिन किशोर और बच्चों को अधिक मात्रा में प्रोटीन की जरूरत होती है क्योंकि इससे उनके शरीर का पूरी तरह से विकास हो पाता है. इसके अलावा प्रोटीन नई कोशिकाओं के निर्माण और उन्हें मरम्मत करने का भी काम करता है. त्वचा, बालों, हड्डियों, नाखूनों, शरीर की कोशिकाओं, मांस पेशियों और अंगों को स्वस्थ रखने के लिए प्रोटीन बहुत ही जरूरी है.

प्रोटीन से हमारे शरीर को क्या-क्या फायदे होते हैं ? What are the benefits of protein to our body?

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रोटीन बहुत ही जरूरी होता है. इसके सेवन से हमारे शरीर को कई तरह के फायदे होते हैं जैसे-

1 .प्रोटीन हमारे शरीर के मांसपेशियों के निर्माण और इसे मजबूत बनाए रखने में मदद करता है.

2 .वजन को नियंत्रित में प्रोटीन बहुत ही लाभदायक होता है.

3 .प्रोटीन से ज्यादा मात्रा में कैलोरी बर्न होता है.

4 .प्रोटीन का उपयोग हड्डियों, लिगामेंट और दूसरे संयोजी ऊतकों को स्वस्थ रखने में मदद करता है.

5 .इसके सेवन से भूख कम लगती है. जिसके कारण मोटापा की समस्या नही होती है.

6 .हमारा शरीर प्रोटीन को पचाने में अधिक समय लगाता है.

7 .प्रोटीन हमारे शरीर की कार्यप्रणाली को दुरुस्त रखने में मदद करता है.

8 .प्रोटीन के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है.

9 .यह हमारे शरीर से गंदगी निकालने में मदद करता है.

10 .प्रोटीन त्वचा और बालों के लिए भी पोषक तत्व प्रदान करता है.

11 .केराटिन नामक प्रोटीन हमारे बाल और नाखून में होता है जो बालों को मजबूत, चमकदार और लचीला बनाए रखता है.

12 .बच्चों के विकास के लिए प्रोटीन बहुत ही उपयोगी होता है.

13 .प्रोटीन घाव या चोट को भरने में मदद करता है.

14 .प्रोटीन हमारे दिमाग को भी स्वस्थ और तेज बनाने में मददगार होता है.

15 .उच्च प्रोटीन आहार ब्लड शुगर, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग संबंधी कारणों के लिए एक प्राकृतिक उपचार भी है.

हमारे शरीर में प्रोटीन अधिक हो जाए तो क्या नुकसान होता है ? What happens if there is too much protein in our body?

प्रोटीन शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ही जरूरी तत्व है. लेकिन कभी-कभी उचित मात्रा से अधिक प्रोटीन का सेवन हमारे सेहत के लिए नुकसानदायक हो जाता है. इसके अधिक सेवन से किडनी में पथरी, ह्रदय और लीवर संबंधित समस्याएं हो जाती है. अतः आप हमेशा प्राकृतिक रूप से प्रोटीन की मात्रा को पूरा करें.

प्रोटीन की कमी होने पर हमारे शरीर में क्या लक्षण होते हैं ? What are the symptoms of deficiency of protein in our body?

प्रोटीन की कमी हमारे शरीर में होने पर अनेक समस्याएं उत्पन्न हो जाती है जैसे कि-

1 .बार बार भूख लगना.

2 .नाखूनों का कमजोर होना.

3 .बाल पतले होना.

4 .भ्रम पैदा होना.

5 .चिड़चिड़ापन और अवसाद होना.

6 .संक्रमण के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता में कमी होना.

7 .घाव भरने में देरी होना.

8 .बीमारियों को ठीक होने में अधिक समय लगना.

9 .दिमागी थकावट का होना.

10 .शरीर का विकास में कमी आना.

11 .बच्चों में कुपोषण जैसी बीमारी होना.

12 .जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द होना.

13 .दिमाग कमजोर होना.

14 .बार-बार बीमारी की चपेट में आना.

15 .नींद नहीं आना.

16 .वजन का बढ़ना.

उम्र के अनुसार कितनी मात्रा में प्रोटीन लेना चाहिए ?

जन्म से 6 महीने के शिशु को 10 ग्राम तक लेना चाहिए.

9 से 13 साल के बच्चे को 19 से 34 ग्राम तक लेना चाहिए.

14 से 18 साल के पुरुष को 50 ग्राम एवं महिलाओं को 46 ग्राम तक लेना चाहिए.

19 से 50 साल के पुरुष को 52 ग्राम एवं महिलाओं को 46 ग्राम तक लेना चाहिए.

गर्भवती महिलाओं को 71 ग्राम तक लेना चाहिए.

बच्चे को दूध पिलाने वाली महिलाओं को 71 ग्राम तक लेना चाहिए.

नोट- अगर आपको प्रतिदिन 2000 कैलोरी की जरूरत है तो इन कैलोरी का 10 से 14% प्रोटीन प्राप्त होना चाहिए. क्योंकि 1 ग्राम प्रोटीन में 4 कैलोरीज होती है. इसका मतलब है कि आपको प्रतिदिन 50 से 71 ग्राम प्रोटीन युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए. इससे आपको 2000 कैलोरी में से 200 से 284 कैलोरी प्राप्त हो जाएगी.

प्रोटीन के बेहतर स्रोत क्या हैं ? What are the best sources of protein?

शरीर में प्रोटीन की कमी ना हो पाए इसके लिए हमें दाल, आटा, हरी सब्जियां, दूध, दही, राजमा, लोबिया, सोयाबीन, मूंगफली, मेवा, चिकन, मछली, अंडा इत्यादि का नियमित सेवन करना चाहिए. यह सभी प्रोटीन के बेहतर और प्राकृतिक स्रोत हैं.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. किसी भी बीमारी के इलाज का विकल्प नहीं है अतः अधिक जानकारी एवं प्रोटीन की कमी को दूर करने के लिए योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

इसे भी पढ़ें-

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment