कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत

हेल्थ डेस्क- आज के व्यस्त जिंदगी में कोलेस्ट्रॉल लेवल का बढ़ना एक आम समस्या बनती जा रही है. स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही और व्यस्त लाइफ स्टाइल के कारण खून में कोलेस्ट्रोल बढ़ जाता है. इससे हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, मधुमेह, ह्रदय से जुड़ी बीमारियां और किडनी की समस्या हो सकती है. कोलेस्ट्रोल का लेबल आहार की वजह से फ्लकचुएट होता है और आहार में अधिक अन्सैचुरेटेड फैट या तेल का प्रयोग करने से शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने लगती है. बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए स्वस्थ आहार बहुत ही जरूरी होता है.

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए यदि आहार में बदलाव किया जाए तो कुछ ही दिनों में इस समस्या से राहत मिल सकती है. आज हम इस लेख के माध्यम से कुछ वैसे आहार और घरेलू उपाय के बारे में जानेंगे. जिसके सेवन से बढे हुए कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी.

कोलेस्ट्रोल बढ़ने के क्या कारण है ?

अस्वास्थ्यकर कोलेस्ट्रोल के स्तर के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं जो निम्न है.

अल्प खुराक- बहुत अधिक संतृप्त वसा या ट्रांस वसा खाने से अस्वास्थ्यकर कोलेस्ट्रोल का असर हो सकता है. संतृप्त वसा मांस और पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पादों की वसायक्त कटौती में पाए जाते हैं. ट्रांस वसा अक्सर पैकेज स्नेक्स या डेसर्ट में पाए जाते हैं.

मोटापा- 30 या इससे अधिक का बॉडी मास इंडेक्स होने से आपको कुछ कोलेस्ट्रोल का खतरा हो सकता है.

व्यायाम नहीं करना- व्यायाम आपके शरीर के एच डी एल यानि अच्छा कोलेस्ट्रोल को बढ़ावा देने में मदद करता है लेकिन यदि आप व्यायाम या फिर शारीरिक एक्टिविटी वाले काम नहीं करते हैं तो बैड कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ सकती है.

धूम्रपान- सिगरेट और शराब पीने से आपका एचडीएल का स्तर कम हो सकता है और बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ सकती है.

उम्र- यहां तक कि छोटे बच्चों में भी अस्वास्थ्यकर कोलेस्ट्रोल हो सकता है लेकिन 40 से अधिक उम्र के लोगों में यह अधिक आम है जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है आपका लीवर एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सक्षम होता है.

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण क्या है ?

शोधकर्ताओं का कहना है कि वैसे तो हाई कोलेस्ट्रोल के लक्षण सामने नहीं आते हैं. हालांकि जब मस्तिष्क या हृदय में रक्त संचार अवरुद्ध हो जाता है तो शरीर में इसके कुछ संकेत जरूर देखने को मिलने लगते हैं. बढ़े हुए कोलेस्ट्रोल के स्तर के कारण हार्ट अटैक या स्ट्रोक का जोखिम बढ़ जाता है. इसके अलावा शरीर में कुछ और लक्षण, यदि लंबे समय तक बने रहते हैं तो इन्हें गंभीर संकेत माना जा सकता है जैसे-

मतली आना.

जबड़ों और बाहों में दर्द होना.

बहुत अधिक पसीना आना.

सांस लेने में दिक्कत होना.

कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करने के लिए करें इन चीजों का सेवन-

आहार में शामिल करें सॉल्युबल फाइबर-

कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने के लिए आहार में बदलाव करना बहुत ही जरूरी है. हेल्थलाइन के मुताबिक यदि आहार में सॉल्युबल फाइबर को शामिल किया जाए तो कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद मिल सकती है. कोलेस्ट्रोल शरीर में पित्त को बढ़ाता है जिसके कारण लीवर में इंफेक्शन होने का खतरा अधिक हो जाता है. सॉल्युबल फाइबर शरीर में मौजूद एंजाइम्स को तोड़ने में मदद करता है और शरीर में कोलेस्ट्रोल को जमा नहीं होने देता है. इसके लिए आप बिन्स, साबुत अनाज, फ्लैक्सीड और सिट्रस फ्रूट्स का सेवन करें.

आहार में शामिल करें अनसैचुरेटेड फैट्स-

कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने के लिए अनसैचुरेटेड फैट्स का सेवन अधिक लाभदायक हो सकता है. लगातार 8 सप्ताह तक अनसैचुरेटेड फैट्स का सेवन करने से 11% तक कोलेस्ट्रोल को कम किया जा सकता है. सैचुरेटेड फैट्स की अपेक्षा अनसैचुरेटेड फैट्स में फैट कम मात्रा में होता है जो शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद करता है. इसके लिए एवोकाडो, ऑलिव आयल, फैटी फीश और नट्स का सेवन करना चाहिए. इसका सेवन हार्ट और लीवर के लिए लाभदायक हो सकते हैं.

शुगर का सेवन कम करें-

शुगर का अधिक सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल को बढ़ाने में मदद करता है. अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार 1 दिन में महिलाओं और बच्चों को 100 कैलोरी से अधिक शुगर का सेवन खतरनाक हो सकता है. वहीं पुरुष 1 दिन में 150 कैलोरी शुगर का प्रयोग कर सकते हैं. इससे ज्यादा शुगर का सेवन शरीर में बैड कोलेस्ट्रोल और मधुमेह के स्तर को बढ़ा सकती है. इसलिए डाइट में शुगर का इस्तेमाल कम करना ही फायदेमंद है.

कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करने के घरेलू उपाय-

1 .हल्दी-

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत
कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत

हल्दी बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करती है. हल्दी में पाए जाने वाले तत्व रक्त की धमनियों से कोलेस्ट्रोल हटाने का काम करती हैं. इसके लिए आप चाहे तो दूध या पानी के साथ आधा चम्मच हल्दी पाउडर का नियमित सेवन कर सकते हैं.

2 .लहसुन-

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत
कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत

कई औषधीय गुणों से भरपूर लहसुन कोलेस्ट्रोल को कम करने का सबसे अच्छा उपाय है. लेकिन इसके लिए आपको सुबह के समय या रात को सोने से पहले कच्चा खाना होगा. दरअसल, लहसुन में एलीसिन पाया जाता है जो एलडीएल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में सक्षम होता है.

3 .सेब का सिरका-

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत
कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत

सेब का सिरका कोलेस्ट्रोल सहित कई बीमारियों को दूर करने में सक्षम है. इसके लिए आप एक चम्मच सेब का सिरका लें और इसे पानी में अच्छी तरह से मिलाकर सेवन करें.

4 .आंवला-

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत
कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत

आंवले में अमीनो एसिड और एंटीऑक्सीडेंट तत्व मौजूद होते हैं जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करते हैं. आप चाहे तो इसके लिए ताजा आंवले का सेवन करें या फिर एक चम्मच आंवले के पाउडर को गुनगुने पानी के साथ सेवन कर सकते हैं.

5 .अलसी के बीज-

अलसी के बीज में लिनोलेनिक एसिड और ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है. इसका सेवन करने से एलडीएल कोलेस्ट्रोल पर सीधा असर पड़ता है और इसे कम करता है. इसके लिए आधा चम्मच की मात्रा में अलसी के बीज को खाकर गुनगुना पानी पी सकते हैं.

6 .ग्रीन टी-

कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत
कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर करें इन चीजों का सेवन, जल्द मिलेगा राहत

आजकल वजन को कम करने के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल बहुत अधिक किया जा रहा है. यह मेटाबोलिज्म को बेहतर बनाने में अहम भूमिका निभाता है. ग्रीन टी में पाए जाने वाले तत्व बैड कोलेस्ट्रोल को तेजी से कम करने में मददगार होते हैं. आप चाहें तो सुबह- शाम ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है. किसी बीमारी के इलाज का विकल्प नहीं है. इसलिए किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment