Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म

हेल्थ डेस्क- दुनिया भर में वैसे तो बहुत सारे पालतू जानवर होते हैं जिसे लोग पालना पसंद करते हैं. लेकिन उन सभी जानवरों में से कुत्ता को लोग सबसे ज्यादा पालना पसंद करते हैं. कुत्ता सबसे वफादार जानवर होता है और अपनी इसी गुण के कारण से लोग उसे घरों में एक सदस्य की तरह रखते हैं. इतना ही नहीं कुत्ता हमारी भारतीय सेना का भी अहम हिस्सा होती हैं जिनका बॉर्डर पर दुश्मन को पकड़ने और पहचानने के लिए इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि वह बहुत ट्रेंड होते हैं. लेकिन वही अगर कोई कुत्ता परिवार या गली मोहल्ले में रहने वाला होता है तो छेड़ने पर वह आप पर हमला भी कर सकता है.

हालांकि आपको बता दें कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप इन पालतू जानवरों से कितना प्यार करते हैं लेकिन कुछ कुत्ते में इंसानों को काटने की प्रवृत्ति होती है. कुत्ते के काटने पर डॉक्टर के पास जाते हैं तो एंटी- टेटनस और एंटी- रेबीज के इंजेक्शन लगवाने की सलाह देते हैं. हालांकि यह सबसे आसान और सुरक्षित तरीका है. इसलिए कुत्ते के काटने पर यह इंजेक्शन लगवा ही लेना चाहिए.

लेकिन फिर भी यदि आप कुछ घरेलू नुस्खा के जरिए अपना इलाज करना चाहते हैं तो इस पोस्ट में हम आपको कुत्ते के काटने से बने घाव को मिटाने का घरेलू और प्राकृतिक उपचार बता रहे हैं जो कुत्ते के काटने पर रामबाण इलाज है.

कुत्ते के काटने पर सबसे पहले ध्यान रखने योग्य बातें-

किसी भी तरह चोट लगना या घाव होने पर साफ रखना आपकी सबसे पहली प्राथमिकता होनी चाहिए. ठीक उसी तरह कुत्ते के काटने के तुरंत बाद उसे आप सेवलोन या डिटोल साबुन और पानी से धोएं. यह इसे हाइजीनिक होने से सुरक्षित रखेगा और संक्रमण के जोखिम को भी कम करेगा.

सबसे पहले जिस जगह पर कुत्ते ने काटा है उसे पानी और साबुन से कम से कम चार- पांच बार अच्छी तरह से धोएं. वहीं डॉक्टरों का कहना है कि जब तक पूरी त्वचा साफ नहीं होती तब तक उसे साफ करें ना कि काटने के तुरंत बाद कुछ भी अप्लाई करें. खून बहने से रोकने के लिए काटने के ऊपर एक साफ तौलिए रख दें. संक्रमण को रोकने के लिए आप एंटीबायोटिक मल्हन लगाएं एवं समय पर एंटी रेबीज या एंटी टिटनेस का इंजेक्शन लगवाए और कुत्ते और घटना के बारे में हर विवरण डॉक्टर को बताएं.

कुत्ते काटने पर घरेलू उपचार-

1 .नीम और हल्दी-

Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म
Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म

नीम और हल्दी का पेस्ट कुत्ते के काटने के घरेलू उपचार में काफी लाभदायक माना जाता है. यह एक प्राकृतिक पेस्ट है जिसे आप चोट के ठीक बाद लगा सकते हैं. बस नीम के पत्तों और हल्दी को मिलाकर एक चिकना पेस्ट तैयार कर लें. इसे प्रभावित त्वचा पर लगाएं. नीम एक हीलिंग एजेंट है जिसका इस्तेमाल कई दवाओं ने भी किया जाता है. नीम और हल्दी का पेस्ट घाव को कम करने में काफी मददगार होते हैं.

2 .लहसुन-

Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म
Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म

लहसुन में प्राकृतिक जीवाणु विरोधी गुण मौजूद होते हैं जो कुत्ते के काटने से होने वाले घाव को ठीक करने में मदद कर सकते हैं. इसके लिए आपको बस लहसुन को पीस लेना है और उसमें नारियल तेल मिलाकर पेस्ट तैयार कर लेना है. अब इसे घाव पर लगाएं इसे लगाने से आपको जलन हो सकती है लेकिन यह नुस्खा काफी असरदार है. इससे आपका घाव जल्दी ठीक होगा और टोक्सिसिटी का असर भी कम होगा.

3 .शहद और प्याज-

Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म
Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म

शहद में एंटी बायोटिक गुण पाए जाते हैं जो कि हर तरह की एलर्जी से बचाता है. यह कुत्ते के जहर के असर को भी कम कर देता है. इसके लिए एक प्याज लेकर महीन पीस लें अब इसमें शहद मिलाकर पेस्ट बनाकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं लाभ होगा.

4 .काली मिर्च-

Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म
Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म

10 से 15 दाने काली मिर्च और दो चम्मच जीरा को पानी में डालकर इसे अच्छी तरह से पीसकर पेस्ट बना लें. अब कुत्ते के काटे वाले स्थान पर लगाएं. कुछ ही दिनों में आपको लाभ मिल जाएगा.

5 .लाल मिर्च-

Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म
Dog- कुत्ता काटने पर करें ये घरेलू उपचार, जहर हो जाएगा खत्म

लाल मिर्च में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कि जहर को तुरंत बाहर खींच लेता है. इसके लिए लाल मिर्च को पीसकर पाउडर बना लें और सरसों के तेल में मिलाकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं. इससे जहर नहीं फैलेगा साथ ही इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है. हां, थोड़ा बहुत जलन हो सकता है.

नोट- कुत्ते के काटने पर आपको हॉस्पिटल जाना चाहिए क्योंकि इसके जहर को खत्म करने के लिए उचित इलाज वहीं मिल सकता है. यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है किसी भी इलाज का विकल्प नहीं है एवं किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह लें. धन्यवाद.

इसे भी पढ़ें-

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment