शारीरिक कमजोरी कैसे दूर करें ? How to remove physical weakness?

हेल्थ डेस्क- सारा दिन शारीरिक मेहनत करके शरीर की सारी ऊर्जा समाप्त हो जाती है और आप बहुत ही सुस्ती, आलस्य और कमजोरी महसूस करने लगते हैं. कुछ लोगों को तो बिना कोई काम या मेहनत किए कमजोरी महसूस होती रहती है. इस कमजोरी को आप हेल्दी डाइट के जरिए आसानी से दूर कर सकते हैं. कई बार शरीर को अधिक मेहनत करने या किसी भी एक्टिविटी को पूरा करने के लिए अलग-अलग तरह के हेल्दी डाइट के सेवन की जरूरत पड़ती है. ऐसे में यदि आपकी डाइट में वह चीजें शामिल नहीं होगी तो आप कमजोरी या थका- थका महसूस कर सकते हैं/ शारीरिक कमजोरी और थकान को दूर करने के लिए आप डाइट में कुछ चीजों को शामिल करके इस समस्या से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं.

शारीरिक कमजोरी कैसे दूर करें How to remove physical weakness
शारीरिक कमजोरी कैसे दूर करें How to remove physical weakness

SHARIRIK KAMJORI KAISE DUR KAREN IN HINDI

मौसमी फलों और सब्जियों को नियमित रूप से करें शामिल-

1 .शारीरिक कमजोरी, सुस्ती, आलस्य, कम एनर्जी लेवल आदि को दूर करने के लिए जितना हो सके आपको अपने डाइट में मौसमी फलों और सब्जियों को शामिल करना चाहिए. इनमें कई तरह के मिनरल्स व विटामिंस मौजूद होते हैं जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं. विटामिन B12 युक्त फल सब्जियों के सेवन से मांसपेशियों की कमजोरी और थकान को दूर किया जा सकता है. इन फलों एवं सब्जियों में एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं जो इन्फ्लेमेशन को दूर करते हैं. इन्फ्लेमेशन के कारण शरीर में कमजोरी महसूस होने लगती है.

How to remove physical weakness?

2 .शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए आपको अपने आहार भी दूध, दही, सूखे मेवे, मशरूम, पनीर, मक्खन इत्यादि को शामिल करना चाहिए. लेकिन ध्यान रहे कि आप संतुलित आहार पर ध्यान दें. खनिज, विटामिन इत्यादि के समीप विविधता भरे अनाज और सब्जियों का सेवन बढ़ाएं. मिक्स वेज का अधिक सेवन करें.

3 .शारीरिक क्रियाशीलता यानि मेहनत करेंगे तो शरीर के सुस्त पड़े गठबंधन, जोड़ों, नस- नाड़ियों में ताजगी आएगी एवं इनके अतिरिक्त भूख भी अच्छी लगेगी. आपने कभी नोटिस किया होगा कि दो-चार दिन आप आराम से बैठे रहे होंगे तो भूख अच्छी नहीं लगती होगी, जबकि पैदल चलने- फिरने से भूख स्वतः खुलकर लगने लग जाती है और आप जो खाना खाते हैं वह अच्छी तरह से पचने लगती है जो शरीर को एनर्जी प्रदान करती है इसलिए आपको सुबह शैर करने की आदत डालनी चाहिए.

4 .दो बार में दिन भर का खाना खाने के बजाय आप कई बार भोजन करें ताकि पेट अनावश्यक रूप से खाली न रहे एवं पोषक तत्वों का अवशोषण हो पाए.

5 .चाय व खाने के बीच कम से कम आधे घंटे का अंतराल जरूर रखें क्योंकि चाय के कारण खाने के कई पोषक तत्वों का अवशोषण अच्छी तरह से नहीं हो पाता है जैसे कि लौह का अवशोषण अच्छे से नहीं हो पाता है जो कमजोरी का कारण बन सकता है.

6 .खून बढ़ाने वाली सब्जियां अधिक मात्रा में सेवन करें जैसे कि पालक, चौलाई इत्यादि तथा किसी भी सब्जी से परहेज न करें. अगर सब्जी ढंग से बनाई जाए तो हर सब्जी स्वादिष्ट होने के साथ ही सेहत के लिए लाभदायक होती है.

7 .कुछ योगासन करके आप अपने शारीरिक कमजोरी को दूर कर सकते हैं जैसे- पादंगुष्ठासन, अधोमुखश्वानासन, अर्धचक्रासन, आनंद बालासन, हलासन आदि.

शारीरिक कमजोरी कैसे दूर करें How to remove physical weakness
शारीरिक कमजोरी कैसे दूर करें How to remove physical weakness

8 .शरीर में अक्सर होने वाली थकान ज्यादा पसीना आना और कमजोरी दूर करने के लिए टमाटर के साथ फरसबीन को उबालकर सूप  तैयार करके और दिन में 2 बार 4 दिन तक पीने से लाभ होता है. यह सूप शक्तिवर्धक होता है अतः शारीरिक कमजोरी को दूर करता है.

9 .शारीरिक कमजोरी दूर करने के लिए आलूबखारे का सेवन करना लाभदायक होता है. इसके सेवन से टॉक्सिंस बाहर निकल जाते हैं, कब्जियत की समस्या दूर होती है और पेट की सफाई होती है. इन फलों में पाए जाने वाले फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट की वजह से पाचन क्रिया ठीक तरह से होती है. शरीर की कोशिकाओं में मेटाबॉलिज्म की क्रिया सुचारू क्रम में होती है. इन पलों में सिट्रिक एसिड पाया जाता है जो कि थकान दूर करने में मददगार होता है. इसके सेवन से लीवर तथा आंतों की क्रिया भी सुचारू रहती है. अतः आलूबुखारा खाने से शरीर में जमा अतिरिक्त वसा या ज्यादा वजन कम करने में मदद होती है और व्यक्ति शारीरिक तौर पर बेहद ही चुस्त- दुरुस्त महसूस करता है.

10 .शहद को दूध के साथ मिलाकर सेवन किया जाए तो दिमाग और पेट के लिए काफी लाभदायक होता है. नींबू पानी के साथ शहद मिलाकर पीने से शरीर को ऊर्जा और ठंडक मिलती है. यदि शहद का सेवन प्रतिदिन किया जाए तो शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखने में काफी मदद मिलती है. साथ ही शारीरिक ताकत को बनाए रखकर थकान को दूर करता है.

अतः उपर्युक्त चीजों को आहार में शामिल करके शारीरिक कमजोरी को दूर किया जा सकता है बशर्ते शारीरिक कमजोरी कोई बीमारी के कारण न हो. यदि कोई बीमारी की वजह से शारीरिक कमजोरी हो तो पहले बीमारी को दूर करके इनका सेवन करना लाभदायक होगा. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment