मोटापा कैसे कम करें ? How to reduce obesity ?

हेल्थ डेस्क- बदलते समय के साथ लाइफस्टाइल में बहुत बदलाव हो रहा है. इस लाइफस्टाइल में ज्यादातर लोग वसा युक्त चीजों का सेवन करना शुरू कर दिए हैं. जिससे मोटापा बढ़ना बिल्कुल ही आम बात हो गई है. आजकल हर दूसरा या तीसरा व्यक्ति मोटापे की समस्या से परेशान है. motapa kaise kam karen?

मोटापा कैसे कम करें How to reduce obesity
मोटापा कैसे कम करें ? How to reduce obesity ?

क्योंकि मोटापे के कारण शरीर बदसूरत दिखने लगता है, साथ ही संपूर्ण शरीर थका हुआ हो जाता है, शरीर में कोई हलचल नहीं होती है और सबसे महत्वपूर्ण बात मोटापा कई बीमारियों को उत्पन्न करता है. जैसे- हाई कोलेस्ट्रोल, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, कैंसर, ह्रदय रोग इत्यादि. इतना ही नहीं इससे शारीरिक प्रभाव के साथ-साथ मानसिक प्रभाव भी पड़ता है. यह मानसिक तौर पर लोगों को निचोड़ देता है लोगों के द्वारा आपका मजाक उड़ाए जाने लगता है जिसके कारण कई लोग डिप्रेशन की स्थिति में चले जाते हैं.

यदि आप भी मोटापे की समस्या से परेशान हैं और इसे कम करने के उपायों के बारे में सोच रहे हैं तो आज हम इस लेख के माध्यम से कुछ उपाय बताने जा रहे हैं. जिसकी मदद से आप मोटापे की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं.

मोटापा क्या है ? What is obesity?

मोटापा शरीर का वह स्थिति है जब शरीर में अत्यधिक फैट जमा हो जाता है. मोटापे को अंग्रेजी भाषा में Obesity कहा जाता है. शरीर में फैट इस हद तक जमा हो जाता है कि यह आपकी स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालने लगता है. कई बार मोटापे के कारण हाई कोलेस्ट्रोल, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, कैंसर हृदय रोग इत्यादि की समस्याएं हो सकती है इसलिए आवश्यक हो जाता है कि मोटापे को कम किया जाए.

मोटापा होने के क्या कारण है ? What is the cause of obesity?

अगर आपको पहले से ही पता हो कि मोटापा किन कारणों से होता है तो हम पहले से ही तैयार रहेंगे और भविष्य में मोटापे को बढ़ने से रोकने में सक्षम होंगे.

मोटापा होने के कारणों के बारे में बात करें तो इसमें अनुवांशिक, खानपान, कुछ बीमारियां, नींद, ज्यादा खाना- पीना, शारीरिक श्रम न करना, व्यायाम न करना, ज्यादा वसायुक्त चीजों का सेवन करना इत्यादि शामिल है.

मोटापा कैसे कम करें ? How to reduce obesity?

मोटापा कम करना ज्यादा मुश्किल काम नहीं है बस आपको मोटापा कम करने के लिए अपने जीवन में थोड़ा बदलाव लाने की जरूरत है. अपने कुछ आदतों को हटाकर नियमित और निरंतर रूप से एक्सरसाइज, डाइट, योगा और घरेलू नुस्खा आदि का सही से इस्तेमाल करना है.

मोटापा कम करने के घरेलू उपाय- Home remedies to reduce obesity-

1 .मोटापा कम करने के लिए सबसे आसान और सस्ता उपाय है- सुबह खाली पेट नींबू, शहद और गर्म पानी पीना. इससे आप की त्वचा भी साफ रहेगी और मोटापा भी दूर करने में मददगार होगा.

2 .रोजाना दो गिलास तरबूज का जूस पीने से लगभग 6-7 सप्ताह में पेट के आसपास की चर्बी कम हो जाती है.

3 .यदि आप चाय पीने के शौकीन हैं तो बिना चीनी की ग्रीन टी पीए. यह झुर्रियों को दूर करने के साथ ही मोटापे की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा.

4 .धनिया का जूस पीने से पेट की चर्बी तो कम होती ही है साथ ही वृक्क ( kidney ) भी ठीक रहती है.

5 .उबला हुआ सेब सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है. इससे आपको फाइबर मिलेगा और आयरन भी मिलेगा. इसे पचाने में भी आपको आसानी होता है जिससे मोटापा कम होता है. इसके सेवन से आपके द्वारा खाए गए भोजन का पाचन सही ढंग से होता है और मोटापे को कम करने में मदद मिलती है.

6 .गोभी की सब्जी या उसके सूप को अपने भोजन में नियमित शामिल करें. इससे वजन कम होता है क्योंकि इस सब्जी में कैलोरी बिल्कुल भी नहीं होती है.

7 .दही का सेवन करने से शरीर की फालतू चर्बी कम हो जाती है छाछ का सेवन करना भी लाभदायक होता है इसलिए रोजाना 3-4 गिलास छाछ पिएं.

8 .खाना खाने के बाद गुनगुने पानी को पीने से वजन तेजी से कम होता है लेकिन खाना खाने के लगभग आधा से एक घंटे बाद ही पानी का सेवन करना चाहिए.

9 .मोटापा कम करने के लिए नीम के पत्तों को घी में पकाकर चबाना लाभदायक होता है.

10 .आंवला और हल्दी को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बना लें. अब इस चूर्ण में से एक चम्मच की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सुबह खाली पेट सेवन करें तो चर्बी तेजी से कम होने लगती है.

11 .आधा चम्मच सौंफ लेकर एक कप खौलते हुए पानी में डाल दें और 10 मिनट तक इसे ढक्कन बनकर उबालें और आंच के उतार कर ठंडा होने पर पिएं. नियमित ऐसा करने से पेट के आसपास की चर्बी कुछ ही दिनों में खत्म हो जाती है.

12 .मोटापा कम करने के लिए नियमित खाएं हरी साग- सब्जियां क्योंकि हरी साग- सब्जियों में ऐसे पौष्टिक तत्व होते हैं जो मोटापे को कम करने में मददगार होते हैं. आपको सब्जियों में खीरा, टमाटर, प्याज, ब्रोकली, गोभी, ककड़ी इत्यादि को नियमित शामिल करना चाहिए.

13 .मोटापा को कम करने में एलोवेरा का जूस काफी उपयोगी साबित हो सकता है. इसके सेवन से मेटाबॉलिज्म उत्तेजित होता है और पाचन तंत्र मजबूत होता है. इसके लिए आपको एक गिलास पानी में एक चम्मच एलोवेरा जूस मिलाकर प्रतिदिन सुबह खाली पेट पीना चाहिए.

14 .आंवले का सेवन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होने के साथ ही यह मोटापे को कम करने में लाभदायक साबित हो सकता है. आंवले में विटामिन सी पाया जाता है जो एक उत्तम एंटीऑक्सीडेंट है. यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देता है. यह हमारे मेटाबोलिज्म को उत्तेजित करने और अत्यधिक कैलोरी को बर्न करने में मदद करता है. जिससे मोटापा कम करने में मदद मिलती है.

15 .मोटापे को कम करने के लिए एक्सरसाइज बहुत ही आवश्यक है. इसलिए नियमित रूप से इन एक्सरसाइज को करना चाहिए. जैसे- कार्डियो, स्विमिंग, रनिंग, रस्सी कूदना, साइकिलिंग इत्यादि.

मोटापा कम करने के लिए डाइट-

1 .प्रोटीन-

वजन कम करने के लिए प्रोटीन सबसे महत्वपूर्ण आहारों में से एक है. प्रोटीन के बिना मोटापे को कम नहीं किया जा सकता है. प्रोटीन मांसपेशियों के निर्माण और उनके रखरखाव के लिए आवश्यक आहार है. आप सभी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जब कभी आप मोटापा कम करने के बारे में सोचें तो आपको अपनी डाइट में प्रोटीन की उचित मात्रा लेना चाहिए. प्रोटीन प्राप्त करने के लिए पनीर, चने, टोफू, सोयाबीन, दाल, अंडा, चिकन, इत्यादि को नियमित मात्रा में सेवन करें.

2 .लो कार्ब्स खाएं-

लो कार्ब्स खाने का मतलब है कि आप अपने डाइट में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को कम कर दें क्योंकि अध्ययन में पाया गया है कि मोटापा बढ़ाने में कार्बोहाइड्रेट का अहम रोल होता है. इसलिए आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि आपके आहार कार्बोहाइड्रेट कम हो.

3 .फैट्स-

बहुत लोग सोचते हैं कि फैट्स खाने से मोटापा बढ़ता है लेकिन यह सही नहीं है क्योंकि फैट्स खाने से मानसिक तनाव कम होता है और हृदय रोग से राहत मिलती है. अच्छा फैट्स खाने से शरीर से मोटापा कम होता है. आपको बादाम, कोकोनट आयल, ओलिव आयल, अंडा इत्यादि का सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए.

4 .फाइबर-

यह बात सही है कि फाइबर खाने से मोटापा कम होता है यह हमारे मेटाबॉलिज्म को सुधारता है और पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है. मोटापा कम करने के लिए सबसे आसान तरीका है कि आपको फाइबर युक्त चीजों का सेवन करना चाहिए. जैसे- हरी साग- सब्जियां, चना, स्प्राउट्स, फल इत्यादि

नोट- यह लेख शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है अधिक जानकारी और किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment