कमर के दर्द से छुटकारा पाने के लिए करें इन घरेलू उपायों का प्रयोग

हेल्थ डेस्क- कमर के निचले हिस्से में दर्द किसी को कभी भी हो सकता है. यह दर्द अक्सर ज्यादा देर तक बैठकर काम करने, घंटों खड़े रहकर काम करने या फिर दिन में ज्यादा वर्कआउट करने के कारण होता है. एक समय तक यह समस्या उम्र के बढ़ने पर होती थी लेकिन आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कम उम्र के लोगों को भी कमर दर्द की समस्या होने लगी है. समय रहते यदि इस दर्द को दूर करने का उपाय न किया जाए तो आगे चलकर यह चिंता का कारण बन सकती है. इससे छुटकारा पाने के लिए डॉक्टर के पास जाना तो सही विकल्प है लेकिन घरेलू उपायों की मदद से भी इस दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है.

आज के समय में कमर दर्द हर घर में किसी न किसी को होता ही रहता है. कुछ को कमर के मध्यम हिस्से मे तो कुछ को कमर के निचले हिस्से में दर्द होता है. दर्द अगर ज्यादा बढ़ जाए तो यह कूल्हों तक भी हो सकता है. जिससे काम करने में परेशानी होने लगती है.

इस दर्द से आराम पाने के लिए लोग पेन किलर दवाओं का सेवन कर लेते हैं जिससे दर्द तो कुछ देर के लिए ठीक हो जाता है लेकिन बाद में यह समस्याएं कभी न कभी उभर ही आती है. ऐसे में आप अपनी आदतों में छोटे-छोटे बदलाव कर इससे बच सकते हैं. आज के इस लेख में हम आपको कमर दर्द से राहत पाने के लिए घरेलू नुस्खों के बारे में बताएंगे. जिन्हें अपनाकर आप कमर दर्द को हमेशा के लिए खत्म कर सकते हैं.

कमर दर्द होने के कारण-

जब कभी आपकी मांसपेशियों, लिगामेंट या पीठ की डिस्क को कोई नुकसान हुआ हो या चोट लगी हो तो आपको कमर दर्द की समस्या हो सकती है. तनावग्रस्त लिगामेंट्स और मांसपेशियों में ऐंठन कमर दर्द का मुख्य कारण होता है. सिर्फ यही नहीं कमर दर्द की बहुत से ऐसे कारण हो सकते हैं जैसे-

1 .किसी भारी वस्तु को गलत तरीके से उठाना.

2 .भरपूर नींद नहीं लेना.

3 .बढ़ती उम्र के कारण.

4 .गठिया रोग के कारण.

5 .सही गद्दे पर ना सोना.

6 .घंटो तक एक ही जगह बैठे रहना.

7 .दिनभर कुर्सी पर गलत पोस्चर में बैठना.

8 .महिलाओं में गर्भावस्था के कारण.

9 .शारीरिक कमजोरी का होना.

10 .भारी शारीरिक कसरत या व्यायाम करना.

11 .अधिक धूम्रपान करना.

12 .हड्डियों की कमजोरी के कारण.

13 .गाड़ियों में लंबे समय तक बैठकर यात्रा करना.

14 .मोटापा अधिक होने के कारण.

कमर दर्द से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय-

1 .मेथी-

मेथी का प्रयोग कमर दर्द से छुटकारा पाने का विकल्प हो सकता है. इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होता है इसके लिए एक चम्मच मेथी दाना पाउडर को एक गिलास गर्म पानी में मिलाएं और पी लें. इसे स्वादिष्ट बनाने के लिए आप चाहे तो इसमें शहद मिला सकते हैं. अगर कमर का दर्द सही नहीं हो रहा है तो प्रतिदिन रात को सोने से पहले कुछ दिनों तक इस नुस्खे का सेवन करें. दर्द में बहुत आराम मिलेगा.

2 .हल्दी-

कमर के दर्द से छुटकारा पाने के लिए करें इन घरेलू उपायों का प्रयोग
कमर के दर्द से छुटकारा पाने के लिए करें इन घरेलू उपायों का प्रयोग

शरीर में किसी भी अंग में दर्द का इलाज हल्दी बेहतर तरीके से कर सकती है क्योंकि हल्दी कर्कुमिन नाम का यौगिक होता है जिसमें एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण यानि पेन रिलीविंग प्रॉपर्टी होती है. हल्दी का प्रयोग कमर दर्द और इसके लक्षणों से राहत दिलाने के लिए अच्छा विकल्प है. इसके लिए प्रतिदिन एक गिलास गर्म दूध में चुटकी भर हल्दी मिलाकर पिएं. दिन में दो बार हल्दी वाला दूध पीने से कमर दर्द चुटकियों में दूर हो जाएगा.

3 .तुलसी-

कमर के दर्द से छुटकारा पाने के लिए करें इन घरेलू उपायों का प्रयोग
कमर के दर्द से छुटकारा पाने के लिए करें इन घरेलू उपायों का प्रयोग

तुलसी में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है. गर्म पानी में तुलसी के 4-5 पत्ते डाल दें और उसमें शहद मिला लें. इसका नियमित रूप से सेवन करें. इससे कमर दर्द में काफी आराम मिलेगा.

4 .सेंधा नमक-

सेंधा नमक में मौजूद मैग्नीशियम सल्फेट कमर दर्द को दूर करने में मददगार होता है. इसके लिए स्नान करते समय बाल्टी में एक या दो का सेंधा नमक को मिला लें और फिर इस पानी से नहाएं. इससे कमर दर्द की समस्या से काफी राहत मिलेगी.

5 .योगा करें-

योगा प्राचीन समय से ही हर तरह के रोग को जड़ से मिटाने वाला और दर्द को दूर करने वाला जाना जाता है. इतिहास गवाह है कि योगा हर परेशानी का रामबाण इलाज है. ऐसे में अगर आप कमर के नीचे होने वाले दर्द से परेशान हैं तो कंधरासन, भुजंगासन, चक्रासन और मकरासन जैसे योगासनो को नियमित रूप से करके कमर दर्द की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं.

कमर दर्द से बचने के लिए क्या करें ?

1 .एक जगह लगातार बैठे रहने से बचें.

2 .बीच-बीच में पैरों को हिलाते रहें.

3 .किसी भी भारी वस्तु को गलत तरीके से ना उठाएं.

4 .कोशिश करें कि गलत मुद्रा में ना बैठें, ना लेटें, ना चलें और ना ही खड़े हों.

5 .धूम्रपान ना करें.

6 .महिलाएं मासिक धर्म के दौरान लगातार कमर की सिकाई करें.

7 .महिलाएं जितना हो सके हील वाली सैंडल को पहनने से बचें.

8 .वजन के बढ़ने पर उसे कम करने का उपाय करें.

9 .जितना अधिक हो सके पौष्टिक आहार सेवन करें.

10 .दिन भर के खाने में हरी सब्जियां, दाल, ड्राई फ्रूट्स, दूध- दही जैसी चीजों को शामिल करें.

11 .हो सके तो प्रतिदिन कम से कम 15 मिनट योग करें.

12 .समय-समय पर कमर के नीचे हल्के हाथों से मालिश करें.

13 .जितना हो सके पानी पिए, पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से रीढ़ की हड्डी हाइड्रेट रहेगी.

14 .सोने के लिए अच्छे गद्दे का इस्तेमाल करें.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment