Kidney stone- गुर्दे में पथरी होने के कारण, लक्षण और इलाज क्या है ?

हेल्थ डेस्क- आजकल गुर्दे यानी किडनी में पथरी का होना एक आम समस्या बनती जा रही है. यह महिला व पुरुष दोनों को होने वाली बीमारी है. गुर्दे में पथरी होने के कारण कई बार काफी दर्द सहना पड़ता है. इतना ही नहीं कई बार गुर्दे में पथरी हटकर पेशाब नली में फंस जाती है तो तुरंत ऑपरेशन की आवश्यकता होती है. यदि समय पर ऑपरेशन ना हो तो मृत्यु तक भी हो सकती है.

चलिए जानते हैं विस्तार से-

गुर्दे की पथरी क्या है ? What is kidney stone?

गुर्दे की पथरी को नेफ्रोंलिथियासिस, रिनल कैलकुली या यूरोलिथियासिस के रूप में जाना जाता है. पथरी कठोर होती है जो पेशाब में पाए जाने वाले सॉल्ट और मिनरल्स जैसे रसायनों से बनी होती है. गुर्दे में पथरी होना काफी आम समस्या है. नेशनल किडनी फाउंडेशन के मुताबिक वैश्विक आबादी के आधे मिलियन से अधिक लोगों को इस समस्या के समाधान के लिए प्रत्येक वर्ष इमरजेंसी रूम में जाना पड़ता है.

यदि आप गुर्दे की पथरी के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक पढ़े हैं.

पथरी स्टोन निगलने से नहीं होती है बल्कि आपके शरीर के भीतर रसायनों के संचय के माध्यम से विकसित होता है. सबसे छोटे गुर्दे की पथरी एक मटर के आकार का और सबसे बड़ा गोल्फ की गेंद के आकार का भी हो सकता है. गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड ने चौड़ाई के मामले में 5 इंच से अधिक का सबसे बड़ा पथरी दर्ज किया है. गुर्दे की पथरी जितनी बड़ी होती जाती है उसे अपने आप बाहर निकालना उतना ही कठिन हो जाता है और अंत में उसे निकालने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है.

गुर्दे की पथरी पूरे पेशाब के रास्ते के किसी भी क्षेत्र में विकसित हो सकती है चाहे वह किडनी हो या मूत्राशय. पथरी पेशाब से भी विकसित हो सकती है. जिसमें एक साथ क्रिस्टलीकृत और क्लंप करने के लिए सांद्रित खनिज जमा हो जाते हैं.

कुछ स्थितियां जैसे डिहाइड्रेशन ( शरीर में पानी की कमी ), असंतुलित आहार और मोटापा गुर्दे की पथरी के निर्माण को बढ़ावा देने वाले कारक हो सकते हैं ?

जितनी जल्दी आपकी स्थिति का निदान किया जाता है शरीर से पथरी को निकालना उतना ही आसान होता है यानी यदि पथरी की साइज छोटी है और पता चल जाए तो आसानी से इसे निकाला जा सकता है. अगर गुर्दे की पथरी पथ में फंस जाती है या पेशाब संक्रमण को जन्म देती है तो अधिक दर्द सहना पड़ सकता है.

गुर्दे की पथरी कितने प्रकार के होते हैं ? How many types of kidney stones are there?

Kidney stone- गुर्दे में पथरी होने के कारण, लक्षण और इलाज क्या है
Kidney stone- गुर्दे में पथरी होने के कारण, लक्षण और इलाज क्या है

सभी गुर्दे की पथरी एक जैसे नहीं होते हैं और आपके गुर्दे की पथरी की संरचना को जानने से उपचार का सही और सबसे प्रभावी तरीका निर्धारित करने में मदद मिलती है. मुख्य रूप से गुर्दे की पथरी चार प्रकार की होती है.

1 .यूरिक एसिड स्टोन-

यूरिक एसिड स्टोन वंशानुगत हो सकता है. सेल फिश या रेड मीट युक्त उच्च प्रोटीन आहार का नियमित सेवन इसके लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार होते हैं क्योंकि इन खाद्य पदार्थों में प्युरिन होता है, प्राकृतिक रासायनिक यौगिक जो मोनोसोडियम यूरेट क्रिस्टल का उत्पादन करता है.

अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं, मेटाबॉलिक सिंड्रोम से पीड़ित हैं या अगर आप अवशोषण या क्रॉनिक दस्त के कारण बहुत अत्यधिक तरल पदार्थ शरीर से खो देते हैं तो आप यूरिक एसिड के पथरी के विकास की चपेट में आ सकते हैं.

2 .कैलशियम ऑक्सलेट स्टोंस-

यह आहार संबंधी कारणों विटामिन बी की अधिकता, मेटाबॉलिक संबंधित विकारों और आंतों की बाईपास सर्जरी के पिछले इतिहास के कारण बनने वाली गुर्दे की पथरी का सबसे प्रचलित प्रकार है.

ऑक्सोलेट लीवर द्वारा प्रतिदिन बनाए जाने वाला पदार्थ है और कुछ खाद्य पदार्थों जैसे चॉकलेट, नट्स, फलों और सब्जियों से भी अवशोषित होता है. कैलशियम स्टोन कैल्शियम फास्फेट के रूप में भी पाया जा सकता है जो किडनी ट्यूबलर ऐसिडोसिस से पीड़ित लोगों में अधिक आम है. यदि आप नियमित रूप से दौरे और माइग्रेन को नियंत्रित करने के लिए दवाओं का सेवन करते हैं तो कैल्शियम फास्फेट स्टोन भी हो सकते हैं.

कैलशियम ऑक्सलेट स्टोन के विकास का समर्थन करने वाले कुछ अन्य मामूली लेकिन समान रूप से महत्वपूर्ण कारण कैल्शियम की कमी और डिहाइड्रेशन है.

3 .सिस्टीन स्टोन-

सिस्टीन स्टोन वंशानुगत और काफी दुर्लभ होते हैं. यह स्टोन विकार सिस्टिन्यूरिया के कारण होता है जो सिस्टीन को मूत्र में बाहर निकलने के लिए प्रेरित करता है. मूत्र में सिस्टीन की अधिकता होने पर गुर्दे की पथरी अंततः विकसित हो जाती है. पथरी यूरिनरी ट्रैक्ट में कहीं भी हमेशा के लिए जमा हो सकती है.

यदि आपको सिस्टीन स्टोनों का निदान किया जाता है तो आपको पता होना चाहिए कि यह एक आजीवन स्थिति है. पुनरावृत्ति होती है इसलिए उचित उपचार के साथ स्थिति को नियंत्रित किया जा सकता है. लेकिन इसे ठीक नहीं किया जा सकता है. उपचार की प्रकृति में तरल पदार्थ का सेवन बढ़ाना, समय पर दवाइयों का सेवन करना और आपको सोडियम और मांस का सेवन कम करना शामिल होता है.

4 .स्ट्रुवाइट स्टोन-

स्ट्रुवाइट स्टोन मुख्य रूप से पेशाब के रास्ते में संक्रमण के कारण होता है और यह बहुत आम नहीं होता है.

गुर्दे में पथरी होने के कारण क्या है ? What is the cause of kidney stones?

शरीर का अत्यधिक वजन, शरीर में पानी की कमी और आप जो प्रतिदिन आहार का सेवन करते हैं वही गुर्दे की पथरी बनने के प्रमुख कारक होते हैं.

गुर्दे की पथरी के अन्य कारण ऐसे पदार्थों के कारण होते हैं जो कभी-कभी छोले या बड़े आकार की कठोर वस्तुओं में क्रिस्टलीकृत हो जाते हैं और बदल जाते हैं ये पदार्थ-

  • क्रिस्टीन.
  • जैन्थिन.
  • यूरिक एसिड.
  • ऑक्सालेट.
  • कैल्शियम.
  • फास्फेट.

आपके शरीर में पथरी कब बनती है जब पेशाब के द्वारा साल्ट और खनिजों ( मिनरल्स ) को खत्म करने के लिए पर्याप्त तरल नहीं होता है.

गुर्दे में पथरी होने के लक्षण क्या हैं ? What are the symptoms of kidney stones?

यदि आप छोटे गुर्दे की पथरी विकसित कर रहे होते हैं तो आपको यह भी नहीं महसूस होता है कि वह निकल चुके हैं. लेकिन अगर गुर्दे की पथरी महत्वपूर्ण अनुपात में है तो कुछ संकेत देते हैं जैसे-

  • पीठ, बाजू और पसलियों के नीचे तेज दर्द होना.
  • दर्द जो तीव्रता में कम या अधिक होता है.
  • कमर और पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द होना.
  • पेशाब करते समय जलन का अनुभव होना.
  • गुलाबी, लाल या भूरे रंग का पेशाब होना.
  • मतली और उल्टी होना.
  • पेशाब की मात्रा अधिक या कम मात्रा में लगातार पेशाब आना.
  • तेज बदबू के साथ क्लाउडी पेशाब होना.
  • ठंड लगने के साथ ही बुखार आना ( यदि कोई संक्रमण हो तो ऐसा होता है )
  • पेशाब में रक्त आना.
  • पेट व कमर के आसपास दर्द होना, जो बैठने पर बेचैनी का कारण बनता है.
  • पेशाब रुक- रुककर आना ( बूंद- बूंद आना )

उपर्युक्त लक्षण केवल तभी महसूस होते हैं या देखे जा सकते हैं जब गुर्दे की पथरी पेशाब की नली में चली गई हो या गुर्दे के चारों ओर घूमना शुरू हो गई हो. मूत्रवाहिनी गुर्दे को मूत्राशय से जोड़ती है और यदि गुर्दे की पथरी मूत्रवाहिनी, जो एक तरह का ट्यूब के समान होती है में फंस जाती है तो यह पेशाब के प्रवाह में बाधा उत्पन्न करती है और मूत्रवाहिनी में दर्दनाक संकुचन पैदा करती है.

गुर्दे की पथरी कितने गंभीर होते हैं ? How serious are kidney stones ?

गुर्दे की पथरी जानलेवा नहीं होती है लेकिन आपके दैनिक जीवन में काफी परेशानियां उत्पन्न कर सकती है. इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर इलाज न किया जाए तो वह गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकते हैं और संक्रमण का कारण बन सकती हैं.

इसलिए इसके उपचार की उपेक्षा नहीं करनी चाहिए और समस्या के समाधान के लिए जल्द से जल्द चिकित्सा का उपाय करना चाहिए.

गुर्दे की पथरी के लिए कुछ जोखिम कारक- किन्हें गुर्दे में पथरी होने की संभावना अधिक होती है ?

गुर्दे में पथरी का इतिहास-

यदि आपके परिवार के किसी सदस्य को गुर्दे में पथरी होने का इतिहास है जैसे कि आपके माता-पिता या दादा-दादी तो आपको भी गुर्दे की पथरी होने की संभावना अधिक रहती है और यदि पहले आपको गुर्दे में पथरी हुई है तो आप पुनः गुर्दे में पथरी होने का अनुभव कर सकते हैं. जब तक की उचित उपचार नहीं किया जाता है.

आहार असंतुलन-

चीनी, सोडियम और प्रोटीन मुख्य रूप से सेल फिश और मांस में उच्च आहार लेने से गुर्दे की पथरी बनने का खतरा अधिक हो जाता है. आहार में अतिरिक्त सोडियम कैल्शियम की मात्रा को बढ़ाता है. जिसे गुर्दा को फिल्टर करने की आवश्यकता होती है.

शरीर में पानी की कमी होना ( डिहाइड्रेशन )

डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी गुर्दे की पथरी के विकास के प्रमुख कारकों में से एक है जो लोग गर्म और आर्द्र जलवायु वाले उष्णकटिबंधीय देशों में रहते हैं या जो प्रतिदिन अधिक पसीना बहाते हैं वे खुद को गुर्दे की पथरी के जोखिम में पड़ सकते हैं.

मोटापा-

चौड़ी कमर का आकार, बॉडी मास इंडेक्स जो 35 और उससे अधिक है और महत्वपूर्ण वजन बढ़ना गुर्दे की पथरी के कारण है. इंसुलिन प्रतिरोध और मेटाबोलिक संबंधी विकार, कैल्शियम ऑक्सलेट गुर्दे की पथरी के विकास की संभावना को जन्म दे सकते हैं.

मेडिकल कंडीशन-

यदि आपको सिस्टिन्यूरिया, हायपरथायराइडिज्म का पारिवारिक इतिहास है या पिछले गुर्दे की ट्यूबलर एसिडोसिस और बार- बार पेशाब के रास्ते में संक्रमण का अनुभव किया है तो आप गुर्दे की पथरी होने के जोखिम भरी स्थिति में हो सकते हैं.

अन्य स्वास्थ्य कारक जो कारण हो सकते हैं वे हैं इन्फ्लेमेटरी बॉवेल रोग, क्रॉनिक दस्त और गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों से जुड़े, यह कारण पाचन प्रक्रिया में बदलाव का कारण बनते हैं जो पानी और कैल्शियम को अवशोषित करने की आपकी क्षमता को प्रभावित करते हैं.

पूरक और दवाएं-

आहार की खुराक, विटामिन सी, जुलाब, डिप्रेशन और माइग्रेन के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं या कैल्शियम आधारित एंटासिड गुर्दे की पथरी के कारणों के लिए भी जोखिम कारक हैं.

गुर्दे की पथरी को होने से कैसे रोक सकते हैं ? How can I prevent kidney stones from occurring?

गुर्दे में पथरी की दर सबसे अधिक होने का जोखिम 25 से 45 वर्ष की आयु के बीच होता है. हालांकि आपके 50 वर्ष तक पहुंचने के बाद घटना बिगड़ सकती है. यदि आपको पहले गुर्दे में पथरी थी तो आपको एक दशक के भीतर फिर से होने की संभावना रहती है. जब तक उचित उपचार नहीं किया जाता है.

समय पर दवाओं का सेवन करने के साथ ही खानपान में छोटे-मोटे बदलाव करके गुर्दे की पथरी को रोका जा सकता है जैसे-

1 .शरीर को हाइड्रेट रखें-

प्रतिदिन लगभग 2 लीटर यूरिन पास करने के लिए 8 से 10 गिलास पानी या कोई तरल पदार्थ पीना बहुत जरूरी होता है. आपके शरीर में जितना अधिक तरल पदार्थ होता है आपका पेशाब उत्पादन उतना ही ज्यादा होता है. आपके आहार में विटामिन सी की नियंत्रित मात्रा जैसे- संतरे का रस और नींबू पानी अच्छे विकल्प हैं जो गुर्दे की पथरी को बनने से रोकते हैं क्योंकि उनमें साइट्रेट मौजूद होते हैं.

2 .सोडियम का उपयोग कम करना-

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि यदि आप गुर्दे की पथरी से सुरक्षित रहना चाहते हैं तो अधिक नमक वाला आहार का सेवन ना करें. पेशाब में अधिक सोडियम पेशाब से रक्त में कैल्शियम को पुनः अवशोषित करने की आपकी क्षमता में हस्तक्षेप करता है. यह केवल टेबल नमक तक ही सीमित नहीं है सोडियम में उच्च होने के लिए कुख्यात खाद्य पदार्थ डिब्बाबंद और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ है जैसे बर्गर, पिज्जा, ढोसा और चिप्स.

मसाला, मोनोसोडियम ग्लूटामैट युक्त खाद्य पदार्थ जैसे- चीनी व्यंजन और फास्ट फूड खाद पदार्थ जो सोडियम बाई कार्बोनेट और सोडियम नाइट्रेट होते हैं.

3 .कैल्शियम युक्त आहार-

कैल्शियम ऑक्सालेट लोगों द्वारा अनुभव की जाने वाली गुर्दे की पथरी का सबसे आम प्रकार है. इससे खुद को बचाने के लिए आपको अधिक कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे- कम वसा वाला पनीर, कम वसा वाला दूध और कम वसा वाला दही का सेवन करना चाहिए. अपने भोजन के साथ कैलशियम सप्लीमेंट लेना भी फायदेमंद होता है.

4 .ऑक्सालेट युक्त खाद्य पदार्थों से बचें-

चॉकलेट, चुकंदर, कॉफी, मूंगफली, गेहूं की भूसी, सोया उत्पाद, शकरकंद और पालक जैसे खाद्य पदार्थ में पाए जाने वाले ऑक्सालेट समृद्ध खाद पदार्थों के सेवन से बचें या सीमित मात्रा में ही सेवन करें.

5 .मांस का सेवन कम करें-

मछली, सूअर का मांस, पोल्ट्री और विदेशी प्रोटीन आइटम अत्यधिक अम्लीय होते हैं और इसके सेवन से यूरिक एसिड बढ़ने की संभावना अधिक रहती है. इस प्रकार का आहार यदि अधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो भविष्य में कैल्शियम ऑक्सालेट गुर्दे की पथरी और यूरिक एसिड का कारण बन सकता है.

गुर्दे में पथरी होने पर क्या करें ? What to do if you have kidney stones?

1 .गुर्दे में पथरी होने पर प्रतिदिन 2 से 3 लीटर पानी पिए ताकि आपका पेशाब साफ हो.

2 .पथरी होने पर दर्द कम करने के लिए दर्द निवारक दवा सेवन करें.

3 .पथरी को आसानी से खत्म करने के लिए डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाओं का सेवन समय पर करें.

4 .प्रोटीन युक्त चीजों का सेवन सीमित मात्रा में करें.

5 .कैल्शियम युक्त आहार लें जो वसा में कम हो.

गुर्दे में पथरी होने पर क्या नहीं करें ? What not to do if you have kidney stones? 

1 .गुर्दे में पथरी होने पर सोडियम से भरपूर खाद्य पदार्थों से परहेज करें.

2 .ऑक्सालेट युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें.

3 .डॉक्टर द्वारा बताई गई भोजन का ही सेवन करें.

4 .कॉफी, शराब या कोला, ऐसी कोई भी की पीने से परहेज करें जो आपको निर्जलीकरण करती है.

5 .चीनी का सेवन कम करें.

6 .अधिक मात्रा में फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप वाले खाद्य पदार्थों का सेवन बिल्कुल ना करें.

कैसे जाने कि गुर्दे में पथरी हो चुकी है ? How to know if there is a kidney stone?

गुर्दे में पथरी का निदान निम्नलिखित लक्षणों के आधार पर किया जा सकता है जैसे-

1 .पेशाब में खून आना.

2 .पेट दर्द के साथ जी मिचलाना या उल्टी होना.

3 .बैठने, लेटने या खड़े होने पर भी बेचैनी महसूस करना.

4 .पेशाब करने में परेशानी का सामना करना.

गुर्दे में पथरी होने पर क्या खाना चाहिए ? What to eat if you have kidney stones?

1 .खट्टे फल जैसे अंगूर, नींबू और संतरे का सेवन करना लाभदायक है.

2 .कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे पनीर, दूध, दही, टोफू, फलियां, गहरे हरे रंग की सब्जियां और बीज.

3 .लीन मांस.

4 .कम वसा वाले आहार.

5 .अधिक मात्रा में तरल पदार्थ और विशेष रूप से पानी पिए.

गुर्दे में पथरी होने पर क्या नहीं खाना चाहिए ? What not to eat if you have kidney stones?

1 .नमक की मात्रा कम लें और आहार में ऊपर से नमक लेकर नहीं खाएं.

2 .प्रसंस्कृत, डिबाबंद खाद पदार्थ और चीनी, मैक्सिकन व्यंजन जिसमें सोडियम की मात्रा अधिक होती है.

3 .सीमित पशु प्रोटीन क्योंकि यह यूरिक एसिड गुर्दे की पथरी के विकास के लिए जोखिम भरा होता है.

4 .चाय, चॉकलेट, शकरकंद, चुकंदर, रूबर्ब जैसे ऑक्सालेट युक्त खाद्य पदार्थ से परहेज रखें.

5 .आलू, टमाटर, पालक और बेसन से बने चीजों का सेवन ना करें.

6 .तेल मसालों का सेवन न्यून ( कम ) मात्रा में ही करना चाहिए.

यदि गुर्दे की पथरी का इलाज न किया जाए तो क्या हो सकता है ? What can happen if kidney stones are not treated?

यदि आप गुर्दे की पथरी को अपनी समस्या का समाधान नहीं करते हैं तो यह आपके दैनिक जीवन में परेशानी का कारण तो बनी ही रहती है. इसके अतिरिक्त यह कई अन्य जटिलताओं को भी उत्पन्न कर सकता है जैसे-

1 .गुर्दे खराब होना.

2 .गुर्दे में संक्रमण.

3 .सेप्टीसीमिया यानी रक्त विषाक्तता.

गुर्दे की पथरी का घरेलू इलाज क्या है ? What is the home remedy for kidney stones?

1 .पानी-

गुर्दे की पथरी को नियंत्रित करने या उन्हें अपने मूत्र पथ में बनने से रोकने के लिए रोजाना 6 से 8 गिलास पानी या 2- 3 लीटर पानी पीना सबसे महत्वपूर्ण उपायों में से एक है.

2 .नींबू का रस-

नींबू में साइट्रेट मौजूद होता है जो शरीर में जमा कैल्शियम को तोड़ने में मदद करता है. चीनी युक्त नींबू पानी का सेवन प्रभावी रूप से गुर्दे की पथरी के विकास को धीमा कर देता है या रोक देता है.

3 .सेब का सिरका-

सेब का सिरका आसानी से उपलब्ध और किफायती उपायों में से एक है जो साइट्रिक एसिड सामग्री के कारण जमा कैल्शियम को तोड़ने में मदद करता है इसलिए सेब का सिरका सेवन किया जा सकता है.

4 .कैल्शियम-

राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान ने खुलासा किया है कि कैल्शियम की खुराक लेने से आप गुर्दे की पथरी के विकास के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं क्योंकि वे आपको दैनिक अनुशंसित सेवन से अधिक प्रदान करते हैं. इसके वजह आपको खाद्य स्रोतों से अपनी कैल्शियम की आवश्यकता को पूरा करने का लक्ष्य रखना चाहिए. इसके लिए खाने योग्य मछली, चाइनीज गोभी, ब्रोकली, केला, कम वसायुक्त डेयरी उत्पाद, अनाज और कैल्शियम फोर्टीफाइड अनाज का सेवन करना चाहिए.

5 .अजवाइन की जड़-

अजवाइन की जड़ में एंटीऑक्सीडेंट और पोटेशियम होते हैं जो कि गुर्दे के भीतर खनिज निर्माण को रोकते हैं. गुर्दे के पथरी से जूझ रहे लोगों को अजवाइन की जड़ के जूस का सेवन करना काफी लाभदायक होता है.

6 .गिलोय-

पेशाब करते समय जलन हो तो गिलोय के तने का चूर्ण 10 ग्राम, आंवले के फल का चूर्ण 10 ग्राम, अदरक का चूर्ण 5 ग्राम, गोखरू के बीजों का चूर्ण 3 ग्राम और अश्वगंधा की जड़ का चूर्ण 5 ग्राम लें. अब इसे 100 मिलीलीटर पानी में उबालकर इसका काढ़ा दिन में एक बार रोगी को पिलाने से बहुत लाभ होता है.

7 .पथरी के कारण पीठ और पेट में दर्द होने पर रोगी को पुनर्नवा, कचूर और अदरक बराबर मात्रा में खिलाना चाहिए. इससे दर्द में तुरंत आराम मिलता है. आदिवासी इस मिश्रण को पानी में उबालकर इसे काढ़ा बनाकर पिलाते हैं. ऐसा माना जाता है कि यह धीरे- धीरे पथरी को गलाकर मूत्र मार्ग से बाहर निकाल देती है.

8 .सौंफ कैंडी और सूखा धनिया 50-50 ग्राम को पीसकर पाउडर बनाकर सुरक्षित रख लें. अब इसमें से एक चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से पथरी में अच्छा लाभ होता है.

9 .प्रतिदिन 5 से 7 तुलसी के पत्ते चबाना गुर्दे की पथरी से ग्रसित मरीज के लिए लाभदायक होता है. इसमें एसिटिक एसिड और अन्य आवश्यक तेल होते हैं जो पथरी को तोड़ते हैं और उन्हें पेशाब के रास्ते बाहर निकालते हैं. यह दर्द निवारक की तरह काम करता है. ज्यादातर लोग तुलसी का इस्तेमाल पित्त की पथरी निकालने के लिए करते हैं.

10 .पथरी के मरीजों को केले का सेवन करना फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें विटामिन बी6 होता है और विटामिन बी6 ऑक्सालेट क्रिस्टल को रोकता और तोड़ता है.

11 .एक गिलास पानी में दो प्याज डालिए और धीमी आंच पर उबालें.  प्याज को पकने पर ठंडा कर लीजिए और प्याज को पीसकर छान लीजिए रस निकालकर एक-दो दिन तक पीने से लाभ होगा.

12 .गेहूं की घास को पानी में उबालकर ठंडा कर लें इसके नियमित सेवन से गुर्दे की पथरी और गुर्दे से संबंधित अन्य रोगों में काफी लाभ होता है.

13 .काली मिर्च गुर्दे की पथरी से छुटकारा दिलाने में मददगार होती है. इसके लिए बेल के पत्तों के साथ काली मिर्च का सेवन करना लाभदायक होता है.

14 .इलायची गुर्दे की पथरी से छुटकारा दिलाती है. इसके लिए एक कप पानी में एक चम्मच इलायची, खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्मच कैंडी को उबाल लें ठंडा होने के बाद इसे छानकर सुबह-शाम पिजिए.

15 .बथुआ भी गुर्दे की पथरी से छुटकारा दिलाता है. इसके लिए आधा किलो बथुआ लें और उसे 800 मिलीलीटर पानी में उबालें. अब इसे किसी कपड़े या चाय की छलनी से छान लें. बथुआ की सब्जी को अच्छे से पीसकर मिक्स कर लीजिए, आधा चम्मच काली मिर्च और थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर दिन में तीन- चार बार सेवन करें इससे गुर्दे की पथरी दूर हो जाती है.

16 .गुर्दे की पथरी को दूर करने में जीरा काफी असरदार होता है. जीरा और चीनी को बराबर मात्रा में लेकर बारीक पीस लें. इस चूर्ण का एक चम्मच दिन में तीन बार ठंडे पानी के साथ सेवन करें.

गुर्दे की पथरी का आयुर्वेदिक इलाज क्या है ? What is the Ayurvedic treatment for kidney stones? 

1 .शंख भस्म और हजरल यहूद भस्म बराबर मात्रा में लेकर पानी की मदद से 4-4 रति गोलियां बनाकर 2-2 गोली और चंद्रप्रभा वटी 2-2 वटी दिन में 3 बार पानी या सोडे के साथ सेवन करें.

2 .लिंग विरेचन चूर्ण 1 ग्राम, लवणभास्कर चूर्ण 1 ग्राम, सज्जी क्षार 1/2 ग्राम, यवाक्षार 1/2 ग्राम और गोखरू गुग्गुल 2-2 वटी सुबह- शाम, गोखरू हिम में नृसार डालकर उससे लें.

3 .यदि उल्टी हो रहा हो तो आलूबुखारा या बर्फ चुसना चाहिए या 1 ग्राम टाटरी 20 मिलीलीटर पानी में डालकर थोडा- थोडा चम्मच से लें.

4 .पेडू से ऊपर कलमी शोड़े का लेप लगावें. कटि स्नान. निरुह वस्ति, विरेचन देना भी फायदेमंद है.

5 .गोखरू का चूर्ण 2 ग्राम शहद के साथ चाटकर बकरी का दूध दिन में 2 बार पिएं.

6 .यदि दर्द अधिक हो तो जातिफलादि चूर्ण सेवन करें.

7 .नारियल का पानी, जौ का पानी, तरबूज, ककड़ी आदि का सेवन करें.

नोट- उपर्युक्त औषधि 2-3 महीने तक नियमित चिकित्सक की देखरेख में सेवन करने से गुर्दे की पथरी अवश्य निकल जाती है. लेकिन पथरी बहुत बड़ी हो गयी हो, असाध्य दर्द हो तो ऑपरेशन करा लेना चाहिए. लेकिन ऑपरेशन के बाद भी चंद्रप्रभा वटी 2-2 वटी सुबह- शाम और गोखरू गुग्गुल 3-3 वटी 12 और 4 बजे एक महीने तक सेवन करना चाहिए. इससे दुबारा पथरी होने की संभावना नही रहती है. आयुर्वेद ज्ञान गंगा पुस्तक में यह चिकित्सा वर्णित है.

डिस्क्लेमर-

इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ चुके होंगे कि गुर्दे की पथरी क्या है ? इसके होने के कारण, लक्षण और इलाज क्या है ? लेकिन आपको बता दें कि यह लेख शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है यह गुर्दे की पथरी के इलाज का निश्चिंत विकल्प नही है क्योंकि उपर्युक्त औषधि का चुनाव एवं मात्रा का निर्धारण एक योग्य चिकित्सक ही कर सकता है. इसलिए चिकित्सक की देखरेख में ही उपर्युक्त औषधि का सेवन किया जा सकता है एवं गुर्दे की पथरी से मुक्ति पाई जा सकती है.

यदि यह जानकारी अच्छी लगे तो शेयर करें ताकि किसी गुर्दे की पथरी से पीड़ित व्यक्ति को लाभ मिल सके. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment