यौन क्षमता बढ़ाने के लिए वियाग्रा से ज्यादा असरदार है ये 7 जड़ी- बूटियां

हेल्थ डेस्क- आजकल की बदलती लाइफ स्टाइल में अनियमित खानपान, खानपान में पौष्टिक तत्वों की कमी, अधिक धूम्रपान, शराब इत्यादि का सेवन करने से शारीरिक कमजोरी होने के साथ यौन क्षमता भी प्रभावित हो रहा है. आजकल ज्यादातर लोग यौन क्षमता को बेहतर बनाने के लिए वियाग्रा जैसी दवाओं का सेवन करते हैं. हालांकि अधिक मात्रा में इसका सेवन करना सेहत के लिए नुकसानदायक होता है. लेकिन यदि कुछ आयुर्वेदिक जड़ी- बूटियों का नियमित सेवन किया जाए तो यह वियाग्रा से भी ज्यादा असरदार साबित हो सकता है.

यौन क्षमता बढ़ाने के लिए वियाग्रा से ज्यादा असरदार है ये 7 जड़ी- बूटियां

तो चलिए जानते हैं यौन क्षमता बेहतर बनाने वाले आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में-

1 .अश्वगंधा- आयुर्वेद के अनुसार अश्वगंधा एक रसायन औषधि है और यह पुरुषों के शरीर में सभी धातुओं की मात्रा को बढ़ाने का काम करता है. इसके सेवन से खासतौर पर शुक्र धातु की मात्रा काफी बढ़ जाती है. इसके नियमित सेवन करने से शरीर की ऊर्जा बढ़ती है वीर्य की मात्रा भी बढती है. यदि सेक्स के दौरान आप जल्दी थकते है. तो इसके लिए प्रतिदिन एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण का सेवन दूध या शहद के साथ करना चाहिए.

2 .कौंच बीज- यह झाड़ियों पर पाए जाने वाला एक औषधीय लता जाति का पौधा है. इस पौधे के बीजों का इस्तेमाल सेक्स पावर बढ़ाने और नपुंसकता के इलाज में किया जाता है. जो लोग शारीरिक संबंध बनाते समय बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस कर रहे हैं. उनके लिए यह जड़ी-बूटी एक वरदान की तरह साबित होता है. आयुर्वेद के अनुसार कौंच के बीजों का स्वभाव गुरु और स्निग्ध होता है और इसे वात नाशक और कफ पित्त वर्धक माना जाता है. यदि आप यौन क्षमता बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल करना चाहते हैं तो कौंच बीज को पीसकर पाउडर बना लें. और इसमें से प्रतिदिन एक चम्मच की मात्रा में गुनगुने दूध के साथ सेवन करें.

3 .त्रिफला- हरड़, बहेड़ा और आंवला से त्रिफला का निर्माण किया जाता है. यह वजन कम करने, कब्ज दूर करने, पेट से संबंधित समस्याओं को दूर करने के अलावा यौन क्षमता बढ़ाने में भी काफी असरकारक औषधि मानी जाती है. इसे चूर्ण के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. जो लोग शारीरिक संबंध बनाते समय बहुत जल्दी थक जाते हैं उन्हें इस जड़ी- बूटी का नियमित सेवन करना लाभदायक होता है क्योंकि सेक्स से जुड़ी कई समस्याएं पाचन तंत्र में खराबी की वजह से भी होता है. ऐसे में आप त्रिफला चूर्ण का इस्तेमाल करके पाचन तंत्र को दुरुस्त कर सकते हैं. इसके लिए रात को खाना खाने के बाद एक चम्मच त्रिफला चूर्ण में थोड़ा शहद मिलाकर सेवन करें. इसका सेवन आप गर्म पानी के साथ भी कर सकते हैं.

4 .सफेद मूसली- यौन क्षमता बढ़ाने के लिए सफेद मूसली का इस्तेमाल सदियों से किया जाता रहा है. यह आयुर्वेद में यौन संबंधित समस्याओं को दूर करने के प्रचलित हर्बल औषधि माना जाता है. इसके सेवन से यौन दुर्बलता, नपुंसकता और शीघ्रपतन जैसी समस्याएं दूर हो जाती है. आयुर्वेद के अनुसार सफेद मूसली मुख्य रूप से वात और पित्त दोष पर काम करती है और कफ को बढ़ाती है. यौन क्षमता बढ़ाने के लिए सफेद मूसली को पीसकर पाउडर बना लें. इसमें एक चम्मच की मात्रा में गुनगुने दूध के साथ नियमित सेवन करें. कुछ ही दिनों में फर्क नजर आएगा.

पुरुष रोगों के लिए-

5 .शिलाजीत- आयुर्वेद में शिलाजीत को शक्तिवर्क और वीर्य वर्धक औषधि माना गया है. यह शरीर की यौन शक्ति बढ़ाने में काफी उपयोगी औषधि है. इसकी तासीर गर्म होती है इसलिए इसके सेवन के दौरान ज्यादा तली, भुनी चीजें, खटाई और अधिक नमक वाली चीजों से परहेज करना चाहिए. शारीरिक संबंध के दौरान अगर आपको ज्यादा कमजोरी महसूस हो रही है तो शिलाजीत का सेवन करना काफी लाभदायक साबित हो सकता है. इसके लिए प्रतिदिन 250 से 500 मिलीग्राम शिलाजीत को एक गिलास दूध में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें. बाजार में शिलाजीत से बने कैप्सूल मिलते हैं आप 1-1 कैप्सूल सुबह-शाम गाय के दूध के साथ सेवन कर सकते हैं.

6 .शतावरी- अगर आप ऐउसे कपल्स में से एक हैं जिनकी सेक्स करने की इच्छा ही नहीं होती है तो ऐसे में अपनी कामेच्छा बढ़ाने के लिए और अपनी सेक्स टाइमिंग को बेहतर बनाने के लिए शतावरी का सेवन कर सकते हैं. यह न केवल आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है बल्कि आपके उर्जा के स्तर को भी बढ़ाता है. इतना ही नहीं जब महिला प्रजनन क्षमता की बात आती है तो इसमे भी इससे कहीं बेहतर परिणाम मिलते है. इसका सेवन एक चम्मच की मात्रा में गाय के दूध के साथ रात को सोने से आधे घंटे पहले करना चाहिए.

7 .गोखरू- इसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते होंगे. लेकिन जब स्टेमिना बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा के बारे में बात की जाए तो उसमें गोखरू यकीनन बहुत ही बेहतरीन औषधि होती है. यह पुरुषों व महिलाओं दोनों के लिए काफी लाभदायक है. यह देखा गया है कि तनाव, अत्यधिक शराब और सिगरेट के सेवन से पुरुषों में आमतौर पर शुक्राणुओं की संख्या कम होने की समस्या विकसित हो जाती है. वही कुछ मामलों में पुरूष स्तंभन दोष के कारण बिस्तर पर लंबे समय तक टिक पाना मुश्किल हो जाता है. ऐसे में गोखरू का सेवन करने से उन्हें बहुत जल्दी लाभ होता है. इसके सेवन से बांझपन से लेकर अन्य यौन समस्याओं से निपटने में मदद मिल सकती है. इसके सेवन से सेक्स ड्राइव में भी बड़ा सुधार होता है. इसके लिए गोखरू चूर्ण आधा चम्मच की मात्रा में शहद और दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करना चाहिए.

नोट- वैसे तो आयुर्वेदिक जड़ी- बूटियों का सेवन से किसी तरह का नुकसान नहीं होता है फिर भी इनका सेवन करने से पहले आपको चिकित्सक से सलाह जरूर लेना चाहिए. अगर आपको पहले से कोई स्वास्थ्य समस्या है तो कभी भी दवा का सेवन बिना सलाह लिए करना नुकसानदायक हो सकता है. इसके साथ ही इन आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन करते समय मात्रा का भी विशेष ध्यान दिया जाना आवश्यक है. क्योंकि उपर्युक्त सभी जड़ी बूटियां गरिष्ट है. यदि आप मात्रा से अधिक सेवन करते हैं तो पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती है. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment