मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

हेल्थ डेस्क- आजकल के बदलते लाइफ स्टाइल में अनियमित खानपन, खानपान में पौष्टिक तत्वों की कमी, फास्ट फूड का अधिक सेवन करने के कारण ज्यादातर पुरुषों में शारीरिक कमजोरी की समस्या हो जाती है. जिसका प्रभाव उनके मर्दाना ताकत पर पड़ने लगता है जिसके कारण शारीरिक संबंध के दौरान शीघ्रपतन, वीर्य में शुक्राणुओं की कमी जैसी समस्याएं होने लगती है. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए ज्यादातर लोग वियाग्रा जैसी दवाओं का सेवन करते हैं जो सेहत के लिए नुकसानदायक होता है. यदि आप वियाग्रा का इस्तेमाल छोड़कर खान-पान का ध्यान रखा जाए और पौष्टिक चीजों का सेवन किया जाए साथ ही घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल किया जाए तो बिना साइड इफेक्ट मर्दाना कमजोरी दूर करना बहुत ही आसान हो जाएगा.

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

आज के इस लेख में हम मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए शहद और किशमिश के प्रयोग के बारे में बताने जा रहे हैं जो बिना किसी नुकसान के फायदेमंद साबित होगा.

तो चलिए जानते हैं मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए शहद और लहसुन का इस्तेमाल करने के तरीका-

सबसे पहले किसी कांच के बर्तन में 300 ग्राम किशमिश के दाने डालिए. उसके बाद आपको उसमें शहद इतना डालना है कि इसमें अच्छी तरह से डूब जाए. इसके बाद ढक्कन बंद करके इसे 48 घंटे के लिए किसी अंधेरे कोठरी में सुरक्षित रख दीजिए. अब 48 घंटे के बाद आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. इस्तेमाल करने के लिए इसमें से चार दाने की किशमिश लीजिए और सुबह खाली पेट इसका सेवन कीजिए और आप चाहे तो इसके सेवन के बाद दूध पी सकते हैं. यह अधिक कारगर होगा. लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि इसका सेवन करने की बाद कम से कम 45 मिनट तक आपको कुछ नहीं खाना है. अगर आप इसका सेवन लगभग नियमित रूप से 30 दिनों तक करते हैं तो शारीरिक कमजोरी दूर होने के साथ-साथ मर्दाना कमजोरी भी दूर हो जाएगी और आपका शरीर हृष्ट- पुष्ट व मजबूत हो जाएगा.

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए घरेलू उपाय-

करें चने का सेवन-

अगर आप वीर्य पतलापन से आपका धातु कम बनता है तो आपको चने का सेवन करना फायदेमंद साबित हो सकता है. इसके लिए एक चीनी मिट्टी के बर्तन में रात भर चने को भिगोकर रख दें. फिर सुबह इन चनों को अच्छी तरह से चबा- चबाकर खाएं और चना आपको उतना ही खाना है जितना आप आसानी से पचा सकते हैं. उसके बाद जिस पानी में आप चने को भिंगोये थे उस पानी को भी ऊपर से पी लें. इस तरह से नियमित कुछ दिनों तक सेवन करने से मर्दाना कमजोरी दूर हो जाएगी.

मर्दाना कमजोरी दूर करने के अन्य उपाय-

करें लहसुन का सेवन-

मर्दाना कमजोरी दूर करने में लहसुन भी काफी मददगार है. इसके लिए प्रतिदिन सुबह खाली पेट दो लहसुन की कलियां चबाकर और थोड़ा सा पानी पी लें. आप चाहें तो रात को सोने से पहले भी सेवन कर सकते हैं.

करें तिल तेल का इस्तेमाल-

तिल का तेल भी इस समस्या को दूर करने के लिए रामबाण से कम नहीं है. तिल का तेल थोड़ी मात्रा में लें. अब उतनी ही मात्रा में लौकी का जूस लें और दोनों को अच्छी तरह से मिलाकर इस मिश्रण को रात को सोने से पहले अपने सिर से लेकर पैर तक मसाज करें. यह बहुत ही प्रभावी उपाय है जो बिना किसी खर्च के आपको इस समस्या से निजात दिलाने में मददगार साबित हो सकता है.

करें बादाम का सेवन-

बादाम का सेवन सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है. इसका सेवन हर कोई आसानी से कर सकता है. अगर बादाम का नियमित सेवन किया जाए तो यह मर्दाना कमजोरी को दूर करने में काफी मददगार साबित हो सकता है क्योंकि इसमें कई तरह के विटामिन और पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं. इसलिए इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए बादाम का सेवन करना अच्छा विकल्प है.

करें आंवले का सेवन-

ज्यादातर लोग आंवले का इस्तेमाल पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए करते हैं. लेकिन आंवला मर्दाना कमजोरी को भी दूर करने में काफी मददगार चीज है. इसके लिए आंवले को सुखाकर पीसकर पाउडर बना लें और इस पाउडर में उतना ही मात्रा में मिश्री मिलाकर सुरक्षित रख लें. अब इसमें से रात को सोने से पहले एक चम्मच चूर्ण का पानी के साथ सेवन करें. इसके नियमित सेवन करने से मर्दाना कमजोरी दूर होगी. वीर्य का पतलापन दूर हो जाएगा और स्वप्नदोष की समस्या दूर होगी.

करें केले का सेवन-

केले का सेवन करना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है. केला ही एक ऐसा फल है जिसका सेवन तुरंत शरीर को एनर्जी प्रदान करता है. यदि आप मर्दाना कमजोरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो प्रतिदिन सुबह खाली पेट दो केले खाकर दूध पी लें. या आप से बनाना शेक बना कर भी इसका सेवन कर सकते हैं.

इए भी पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

बुढ़ापे में भी मर्दाना कमजोरी दूर करने के 9 घरेलू उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

करें अजवाइन का सेवन-

अजवाइन हर घर में बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो जाती है. यदि आप मर्दाना कमजोरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो इस समस्या से छुटकारा पाने में अजवाइन काफी मददगार साबित हो सकता है. इसके लिए लगभग 100 ग्राम अजवाइन लें. अब इसे प्याज के रस में भिगोकर धूप में सुखा लें,. जब सूख जाए तो फिर से प्याज के रस में भिगोकर सुखाएं और इस तरह तीन- चार बार करने के बाद सुखाकर पीसकर पाउडर बना लें और उतना ही मात्रा में मिश्री मिलाकर सुरक्षित रखें. अब प्रतिदिन सुबह खाली पेट एक चम्मच की मात्रा में दूध के साथ सेवन करें मर्दाना कमजोरी दूर होगी.

करें उड़द का सेवन-

मर्दाना शक्ति को बढ़ाने के लिए उड़द रामबाण से कम नहीं है. इसके लिए आप उड़द के लड्डू, उड़द की दाल या उड़द का सेवन कर सकते हैं. इससे धातु में बढ़ोतरी होती है. संभोग शक्ति बढ़ती है. लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जिनका पाचन शक्ति अच्छी नहीं है उन्हें इसका सेवन कम मात्रा में शुरू करना चाहिए.

करें दरियाई ताल मखाना का सेवन-

दरियाई ताल मखाना का पौधा धान के खेतों में पाया जाता है. इसके फल तोड़ कर इसे संग्रहित किया जा सकता है या फिर पंसारी के यहां आसानी से मिल जाता है. इसका नियमित सेवन करने से धातु के पतलेपन, शीघ्रपतन, स्वप्नदोष, शुक्राणुओं की कमी आदि को दूर करने में यह मददगार होता है. इसके लिए तालमखाना के बीज को पीसकर पाउडर बना लें. इस चूर्ण को 3 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ नियमित सेवन करने से लाभ होता है.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है किसी भी प्रयोग से पहले योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment