महिलाओं को वजन घटाने के लिए स्वस्थ आहार और व्यायाम क्या है ? जानें विस्तार से

हेल्थ डेस्क- वजन कम करने के लिए बेताब बहुत से लोग सोचते हैं कि अनाज और दलिया महिलाओं के लिए प्रभावी वजन घटाने वाले खाद्य पदार्थ हैं. यदि आप उन लोगों में से हैं जो जल्दी से अपना वजन कम करना चाहते हैं, तो आपको एक बहुत ही महत्वपूर्ण तथ्य पर ध्यान देना होगा. वजन कम करना खुद को भूखा रखने से बहुत अलग है.

महिलाओं को वजन घटाने के लिए स्वस्थ आहार और व्यायाम क्या है ? जानें विस्तार से

अनाज, दलिया और कोई अन्य कृत्रिम रूप से संसाधित आहार भोजन वजन कम करने में आपकी मदद करने के लिए स्वस्थ भोजन नहीं हैं. जब तक आप भुखमरी के कारण होने वाली चिकित्सा समस्याओं से पीड़ित नहीं हो जाते, तब तक आप वास्तव में खुद को भूखा रख रहे होंगे.

ऐसे खाद्य पदार्थ जो वजन कम करने में आपकी मदद करने के लिए स्वस्थ और प्रभावी दोनों हैं, वे ताजे फल और सब्जियों से बने होते हैं जिनमें आपके शरीर को आवश्यक विटामिन और पोषक तत्व सही मात्रा में होते हैं. अगर आप अच्छा नाश्ता करना चाहते हैं लेकिन मोटा नहीं होना चाहते हैं, तो गेहूं की रोटी के साथ अंडे का सैंडविच बनाएं. अंडे प्रोटीन से भरपूर होते हैं जो कि आपको ऊर्जावान दिन के साथ शुरुआत करने के लिए बिल्कुल आवश्यक है और गेहूं की रोटी भी फाइबर से भरपूर होती है. अपने दिन की शुरुआत करने के लिए गेहूं और अंडे के साथ, आपको निश्चित रूप से अपने भोजन के बीच में स्नैक्स लेने की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि यह आपको वह सभी ऊर्जा प्रदान करने में सक्षम होगा जो आपको अपना आधा दिन बनाए रखने के लिए चाहिए.

लंच और डिनर के लिए सालमन, ब्रोकली, बीन्स और हरी पत्तेदार सब्जियां भी बहुत अच्छे विकल्प हैं. सैल्मन ओमेगा-3 से भरपूर होता है जो दिल के लिए अच्छा और फायदेमंद होता है. यह कम कैलोरी, कम कार्बोहाइड्रेट और कम संतृप्त वसा; ठीक वही जो फिगर के प्रति जागरूक महिलाएं बचना चाहेंगी.

अगर आप वजन बढ़ने के कारणों के बारे में सोचते हैं, तो सबसे स्पष्ट में से एक शायद यह है कि आपने मिठाई या चॉकलेट, आइसक्रीम और केक जैसे जलपान पर नियंत्रण खो दिया है. यदि वही लालसा आपको वजन कम करने से रोकती है, तो निश्चित रूप से आपको स्मूदी खाने में मदद मिलेगी. स्मूदी आपकी पसंद के मिश्रित फल हैं. आप जो नुस्खा चाहते हैं उसके आधार पर उन्हें टोफू, शहद या सोया दूध के साथ जोड़ा जा सकता है. चूंकि स्मूदी फलों से बनी होती है, इसलिए आपको गारंटी दी जाती है कि उनमें आपके शरीर को आवश्यक विटामिन और पोषक तत्व सही मात्रा में हों. इसमें चीनी हो सकती है लेकिन बहुत सीमित मात्रा में. स्मूदी निश्चित रूप से आपकी क्रेविंग को बहुत अधिक स्वस्थ तरीके से संतुष्ट कर सकती है और यह आपको मोटा या वजन नहीं बढ़ाती है.

आप बहुत तेजी से वजन कम करना चाहते हैं, लेकिन आप कितने भी हताश क्यों न हों, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपका वजन घटाने वाला आहार और व्यायाम सुरक्षित हैं और आपको बहुत अधिक जोखिम में नहीं डालेंगे. यदि आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि आप महिलाओं के लिए सही वजन घटाने वाले खाद्य पदार्थ खा रहे हैं तो आपको एक पंजीकृत आहार विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए, जो आपको ऐसे आहार के बारे में सलाह दे सकता है जो आपके शरीर के प्रकार के अनुरूप हो. स्वस्थ शरीर रखना और वजन कम करना निश्चित रूप से सही भोजन के साथ मिलकर किया जा सकता है.

कुछ एक्सरसाइज जो महिलाओं को मोटापा कम करने में मदद कर सकती है जैसे-

1 .हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेंनिंग-

हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेंनिंग को बिना किसी एक्यूपमेंट के किया जाता है. यह काफी एनर्जेटिक और इसे करने से अच्छी मात्रा में कैलोरी बर्न होती है. नियमित एक्सरसाइज कर लिया जाए तो हार्ट भी हमेशा के लिए फिट रहता है.

कुछ विशेषज्ञों के अनुसार महिलाओं को लंबे कार्डियो वर्कआउट सेसन के बजाज होते बाउट्स पर फोकस करना चाहिए बेहतर है. अपने रूटीन में जंपिंग जैक, आस्क वेटलैंड, अप डाउन जैसी एक्सरसाइज शामिल करना चाहिए.

वीर्य में शुक्राणु की संख्या बढ़ाने के लिए क्या करें ? जाने आसान एवं घरेलू उपाय

2 .स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वर्क आउट-

महिलाओं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग वर्क आउट वैज्ञानिक रूप से बेहतर साबित हुए हैं. इस व्यायाम को करने से शरीर में मांसपेशियों का निर्माण होने के साथ-साथ वजन भी बहुत जल्दी कम होता है. कैलोरी जलाने के लिए यह सबसे अच्छा एक्सरसाइज है. हल्का या कम भारी वजन उठाना अपने बॉडिवेट का उपयोग करना अधिक कैलोरी जलाना और प्रभावी ढंग से वजन को मैनेज करना स्ट्रेंथ ट्रेनिंग के शानदार तरीके हैं. कई अध्ययनों में कहा गया है कि जब आप वजन उठाते हैं तो यह मांस पेशियों की मजबूती के लिए बेहतर होता है.

3 .कार्डियो वर्कआउट-

वजन को कम करने के लिए कार्डियो वर्कआउट काफी पसंद किया जाता है. कई महिलाएं पीसीओएस की समस्या से पीड़ित होने के कारण ही मोटापा के शिकार होते हैं तो ऐसे में स्ट्रेंथ और इंटरवेल ट्रेनिंग एक्सरसाइज का कॉन्बिनेशन बहुत ही लाभदायक है. एरोबिक, दौड़ना, टहलना, चलना पीसीओएस के कई लक्षणों से निपटने में मददगार हो सकता है. बस नियमित रूप से इसे करना आवश्यक है.

4 .मन और शरीर का व्यायाम-

तनाव जी पीसीओएस का एक लक्षण है. हाल ही में किए गए शोधों के अनुसार मन से किया गया व्यायाम तनाव से राहत दिलाता है. इसके साथ ही मोटापे को नियंत्रित करने में मददगार होता है. नियमित रूप से कैलोरी वर्न करने के लिए योग, ताई वची पिलेट्स जैसे व्यायाम किया करें. यह कोर्टिसोल के स्तर को कम करने और तनाव से दूरी बनाने में मदद करेंगे. बता दें कि तनाव सूजन और वजन बढ़ने के लिए जिम्मेदार होता है.

नोट- यह लेख शैक्षणिक उद्देश्य से लिखा गया है. यदि आप वजन बढ़ने या मोटापे की समस्या से परेशान हैं तो कोई योग्य चिकित्सक की सलाह जरूर लें. धन्यवाद.

ayurvedgyansagar.com पर पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

बदलते मौसम में सर्दी, खांसी, बुखार जैसी समस्या से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्खे

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

बुढ़ापे में भी मर्दाना कमजोरी दूर करने के 9 घरेलू उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

हींग क्या है ? जाने इसके फायदे और इस्तेमाल करने के तरीके

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

दिल की धड़कन रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

अपतानिका ( Tetany ) रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

शरीर की कमजोरी, थकान, खून की कमी दूर कर मर्दाना ताकत को बेहतर बढ़ाती है ये 12 चीजें

मर्दाना कमजोरी दूर करने के लिए बेहतर उपाय है किशमिश और शहद का ये नुस्खा, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

जाड़े में कमर और जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण है मेथी का लड्डू, जाने बनाने की विधि

श्वेत प्रदर रोग होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपचार

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment