औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां ?

हेल्थ डेस्क- आयुर्वेदिक औषधियों का निर्माण जड़ी- बूटियों के मिश्रण से किया जाता है. इसमें कई तरह की पेड़- पौधों, घास- फूसों इत्यादि से जड़ी, फुल, फल, छाल, पत्ते इत्यादि को संग्रह कर उचित मात्रा में मिलाकर औषधि तैयार की जाती है. इसके अलावा घरेलू उपायों के रूप में भी पेड़- पौधों के फल, फूल, जड़, तना इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन नहीं जानकारी होने के कारण लोग पेड़- पौधों से कभी भी उनके फल, फूल इत्यादि को एकत्रित कर लेते हैं. जबकि आयुर्वेद के अनुसार इसे एकत्रित करने का पेड़- पौधों के उम्र, उचित समय इत्यादि के बारे में बतालाया गया है. अगर नियम के अनुसार इन्हें संग्रहित कर औषधि के रूप में या घरेलू उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाए तो यह अधिक कारगर और लाभदायक साबित होगा.

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां

आज के इस लेख में हम पेड़ पौधों से कौन से समय में कौन से अंग को लेकर उसका उपयोग औषधि के रूप में किया जाना चाहिए के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे.

इसे भी पढ़ें-

हिस्टीरिया रोग क्या है ? जाने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जानें- बेहोशी होने के कारण, लक्षण और आपातकालीन उपचार

कमर दर्द ( कटि वेदना ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्वसनीविस्फार ( ब्रोंकाइटिस ) होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

कंपवात रोग क्या है? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

वृक्क पथरी क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

प्रतिश्याय ( सर्दी ) क्यों हो जाती है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

चेचक क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

आमाशय व्रण ( पेप्टिक अल्सर ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

उन्डूकपुच्छशोथ ( Appendicitis ) क्या है? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

हैजा रोग क्या है ? जानें कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय

सर्दियों में सिंघाड़ा खाने के फायदे

अफारा (Flatulence ) रोग क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

जठर अत्यम्लता ( Hyperacidity ) क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

हिचकी क्या है? जाने कारण, लक्षण एवं घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय

विटामिन डी क्या है ? यह हमारे शरीर के लिए क्यों जरूरी है ? जाने प्राप्त करने के बेहतर स्रोत

सेहत के लिए वरदान है नींबू, जाने फायदे

बच्चों को मिर्गी होने के कारण, लक्षण, उपचार एवं बचाव के तरीके

जिस प्रकार मनुष्य, पशु, पक्षी आदि को तीन अवस्थाओं से गुजरना पड़ता है ठीक उसी प्रकार वनस्पतियों की भी बाल, तरुण और वृद्ध अवस्था होती है. जड़ी बूटियों के संबंध में अधिकांश लोगों को इस बात का ज्ञान नहीं होता है कि किस जड़ी-बूटी को किस समय और उसके किस भाग को तोड़ना चाहिए. जड़ी-बूटी तोड़ने का उचित मौसम, उचित समय, दिन-रात प्रातः या मध्यान्ह देख कर ही संग्रह करना चाहिए. यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो औषधि प्रयोग के समय पूरा गुण प्रदर्शित नहीं करेगी यानी वह जड़ी- बूटी उचित कारगर नहीं हो पाएगी.

इसी प्रकार जहां हरी बूटी को प्रयोग करना बताया जाए वहां हरी ही काम में लेनी चाहिए. वनस्पतियों में फूल आने से पूर्व की अवस्था बाल अवस्था, फुल आने पर तरुण अवस्था तथा फल आने की अवस्था को अंतिम अवस्था माना गया है और समय में तथा स्थान विशेष से प्राप्त न करने पर औषधि के गुण कम हो जाते हैं. इसी प्रकार एक साल से अधिक समय अथवा अधिक पुरानी हो जाने पर भी उनके गुण कम हो जाते हैं. इन सब बातों पर ध्यान रखते हुए ही उचित समय पर जड़ी- बूटियों का संग्रहण करना चाहिए.

चलिए जानते हैं विस्तार से-

जड़ी- बूटियों के तोड़ने का उचित समय-

जो बूटियाँ प्रातकाल हरी भरी होती है, उन्हें प्रातः काल ही तोड़ना चाहिए. लेकिन कुछ बूटियाँ ऐसी भी होती है जो सूर्योदय होने पर विकसित होती है. अतः उन्हें सूर्योदय के बाद ही तोड़ना या उखाड़ना चाहिए. दूधवाली बूटियों को तोड़ने से पहले उसके पत्तों आदि को तोड़ कर देख लेना चाहिए, जब यह पूरी तरह हरी-भरी पुष्ट तथा दूध से लबालब हैं अर्थात पत्ते तोड़ते ही दूध टपकने लगे तभी उसे लेना चाहिए. क्योंकि वह उस समय लेने से अधिक कारगर होगा.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए पत्तियां ?

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां

जिस मौसम में जो बूटी अत्यंत हरी-भरी हो, पत्ते पूर्ण विकसित हों, पीले या मुरझाए हुए ना हो, रस तथा फूलों से भरी हो तभी पत्ते तोड़ने चाहिए. जिस बूटी के फल पक गए हैं अर्थात बीज बन गए हैं ऐसे बूटी के पत्ते नहीं लेनी चाहिए. पत्तों को छाया में सुखाना चाहिए. औषधि प्रयोग के लिए धूप में सुखाना उचित नहीं है अन्यथा उनके रंग और उनके गुण में बदलाव आ जाएगा.

इसे भी पढ़ें-

गठिया रोग संधिशोथ क्या है ? जाने कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पुरुषों को नियमित करना चाहिए इन चीजों का सेवन, कभी नही होगी कमजोरी की समस्या

सोना, चांदी आदि धातु से बने गहने पहनने के क्या स्वास्थ्य लाभ होते हैं? जरुर जानिए

दूध- दही नहीं खाते हैं तो शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए करें इन चीजों का सेवन

मर्दाना शक्ति बिल्कुल खत्म हो चुकी है उनके लिए अमृत समान गुणकारी है यह चूर्ण, जानें बनाने और सेवन करने की विधि

स्पर्म काउंट बढ़ाने में इस दाल का पानी है काफी फायदेमंद, जानें अन्य घरेलू उपाय

एक नहीं कई बीमारियों का रामबाण दवा है आंवला, जानें इस्तेमाल करने की विधि

रात को सोने से पहले पी लें खजूर वाला दूध, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

महिला व पुरुषों में प्रजनन क्षमता बढ़ाने के कारगर घरेलू उपाय

दिल और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद है मसूर दाल, मोटापा को भी करता है नियंत्रित

कई जटिल बीमारियों का रामबाण इलाज है फिटकरी, जानें इस्तेमाल करने के तरीके

पेट में कृमि ( कीड़ा ) होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

पित्ताशय में पथरी होने के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक एवं घरेलू उपाय

 

जानें- स्वास्थ्य रक्षा की सरल विधियां क्या है ?

सारस्वतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बाजीकरण चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अश्वगंधादि चूर्ण बनाने की विधि उपयोग एवं फायदे

शतावर्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शतपत्रादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अमृतारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

गंधक रसायन चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महामंजिष्ठादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

योगराज और महायोगराज गुग्गुल बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फूल ?

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां

जब बूटी पूरी तरह फूल से लदी हो, फुल पूरी तरह से खिले हुए हों और मुरझाए हुए ना हो तभी फूल तोड़ने चाहिए. प्रायः प्रातः काल से दोपहर तक का समय ही फूल तोड़ने के लिए उचित होता है.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल और बीज ?

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां

जब बूटी के फल स्वाभाविक रूप में पक गए हो और पत्तों का संपूर्ण रस पत्तों में समां गए हों, बीज कच्चे ना हो, बीजों का रंग प्राकृतिक रूप में आ चुका हो, तभी फलों को तोड़ना और उसके बीजों को लेना चाहिए. ऐसा करने से वह अधिक गुणवान साबित होगा.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए जड़ ?

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां

जो बूटियां 12 माह मिलती है और उसकी जड़ हरे ही प्रयोग करने का प्रावधान हो, उन्हें पहले से तोड़ कर रखना अच्छा नहीं है. जड़ ताजा ही अच्छी रहती है. लेकिन कुछ बूटियाँ ऐसी भी होती है जो किसी मौसम विशेष में कुंभला जाती है. उनकी जड़ हरी व मुलायम अवस्था में ही लेनी चाहिए. लेकिन जो जड़ सड़ी- गली हो अथवा जिसमे कीड़ा आदि लग जाने क्षत- विक्षत हो रही हो उसे प्रयोग नहीं करना चाहिए. सर्दी के मौसम में बूटी का रस पत्तों से उतरकर जड़ों में एकत्रित हो जाता है. अतः ऐसी जड़ी- बूटियों की जड़े सर्दी में ही ग्रहण करनी चाहिए.

पेड़- पौधों से कब लेनी चाहिए छाल ?

औषधि प्रयोग के लिए पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए फल, फूल, छाल, पत्ते व जड़ी- बूटियां

बूटी अथवा पेड़ की छाल और बक्कल युवावस्था में ही उतारना चाहिए. मुरझाए और रूखे वृक्ष की छाल में गुणों का अभाव हो जाता है. हरी-भरी अवस्था में छाल सुगमता से उतर जाती है. अतः वसंत ऋतु से पहले या तुरंत बाद छाल अथवा बक्कल उतारना अति उत्तम होता है. उह औषधि में प्रयोग करना अधिक कारगर होता है.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए दूध ?

दूध वाली बूटियों, पौधों और वृक्षों से दूध उस समय लेना चाहिए जब उनकी शाखा, पत्ते और छाल दूध से परिपूर्ण हो. इनको लेने की सबसे अच्छी विधि यह है कि वृक्ष या शाखा में चीरा लगाकर अथवा पत्ते तोड़कर दूध को शीशे अथवा चीनी मिट्टी के पात्र में एकत्र करके सुखा दिया जाना चाहिए.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए गोंद ?

गोंद वाले युवा वृक्षों में प्रायः शीत ऋतु में छाल फटकार खुद ही बाहर निकल कर गोंद के रूप में तैयार हो जाते हैं. उस गोंद को प्रातः सूर्योदय से पहले अथवा सूर्यास्त के बाद लेना चाहिए. यह औषधि रूप में अधिक कारगर होता है.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए निर्यास ?

मोटी छाल वाले पेड़ों में चीरा लगाने के बाद तथा कुछ नीम, बबूल आदि वृक्षों से अपने आप ही निर्यास ( एक प्रकार का रस ) निकलने लगता है इसे चीनी मिट्टी अथवा कांच के बर्तन में संग्रह करके रखना चाहिए.

पेड़- पौधों से कब लेना चाहिए काष्ठ ( लकड़ी ) ?

शीत ऋतु में वृक्षों का काष्ठ  वीर्य से परिपूर्ण होता है. उस वक्त लेकर छाया में सुखाकर सुरक्षित रख लेना चाहिए. और आवश्यकता पड़ने पर उसे औषधि रूप में प्रयोग में लाना चाहिए.

नोट- चाहे आप आयुर्वेदिक औषधि तैयार कर रहे हो या फिर घरेलू उपयोग में लाने के लिए जड़, फल, फूल, तना, पत्ते इत्यादि का संग्रहण कर रहे हैं तो ध्यान रखते हुए इसे उचित समय पर संग्रहित करने पर यह अधिक कारगर व फायदेमंद साबित होगा.

यह पोस्ट शैक्षणिक उदेश्य से लिखा गया है. अतः अधिक जानकारी के लिए योग्य चिकित्सक की सलाह लें. धन्यवाद.

स्रोत- आयुर्वेद गाइड-

इसे भी पढ़ें-

आयुर्वेद के अनुसार किस ऋतु में कौन सा पदार्थ खाना स्वास्थ्य के लिए हितकर होता है, जानें विस्तार से

ब्रेन ट्यूमर होने के कारण, लक्षण और घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपचार

श्रीखंड चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

ब्राह्मी चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

बिल्वादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

तालीसादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सितोपलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

दाड़िमपुष्प चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग और फायदे

मुंहासे दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

सफेद बालों को काला करने के आयुर्वेदिक उपाय

गंजे सिर पर बाल उगाने के आयुर्वेदिक उपाय

कर्पूरासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

वासासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मृगमदासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

द्राक्षासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अर्जुनारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

खदिरारिष्ट बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

चंदनासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

महारास्नादि क्वाथ बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

रक्तगिल चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

नारसिंह चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कामदेव चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

शकाकलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

विदारीकंदादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रद्रांतक चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

माजूफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

मुसल्यादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

सारिवादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

कंकोलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

प्रवालादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

जातिफलादि चूर्ण बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

अद्रकासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

लोहासव बनाने की विधि, उपयोग एवं फायदे

 

Share on:

मैं आयुर्वेद चिकित्सक हूँ और जड़ी-बूटियों (आयुर्वेद) रस, भस्मों द्वारा लकवा, सायटिका, गठिया, खूनी एवं वादी बवासीर, चर्म रोग, गुप्त रोग आदि रोगों का इलाज करता हूँ।

Leave a Comment